Thursday , June 1 2023

फर्जी स्टांप पर कोई करा ले सिग्नेचर तो क्या करें, धोखाधड़ी से कैसे बचें?

लखनऊ. राजधानी लखनऊ में धोखाधड़ी का एक मामला सामने आया है। यहां एक लड़की से स्टॉम्प पर फर्जी तरीके से सिग्नेचर करा लिए गए। जिसके बाद शादी के वक्त उसे ब्लैकमेल किया गया। मामला पुलिस के संज्ञान में है। जांच की जा रही है। वैसे यह एक मामला नहीं है। फर्जी दस्तखत करवाकर उसका दुरुपयोग करने के मामले पहले भी आ चुके है। ऐसे में लोग इससे सतर्क कैसे रहें, इसके बारे में कुछ सुझाव हैं।

ये भी पढ़ें- रसोई गैस सिलेंडर पर मिलता है 50 लाख का बीमा, जानें कब और कैसे कर सकते हैं क्‍लेम?

पहले जानिए क्या था मामला-

लखनऊ की एक लड़की प्रयागराज अपने चाचा के घर गई थी। वहां चाचा के बच्चों के पढ़ाने घर आने वाले शिक्षक सुधीर सिंह ने लड़की की नौकरी लगाने के नाम पर एक स्टॉंप पर उसके सिग्नेचर करा लिए। बाद में जब लड़की की शादी तय हो गई, तो सुधीर ने फर्जी विवाह शपथ पत्र बनवा लिया और लड़की व उसके परिवार वालों को भेज दिया। सुधीर ने उससे पांच लाख रुपए भी मांगे। फिलहाल पुलिस मामले की जांच में जुट गई है।

क्या करें यदि ऐसा हो-

एक वकील के अनुसार यदि ऐसा स्थिति आए, तो सबसे पहले पुलिस थाने में एफआईआर दर्ज कराने की जरूरत है। अगर एफआईआर दर्ज न हो, तो उच्च अधिकारियों, जैसे की एसपी, डीएसपी व कमिश्नर को खत लिखकर शिकायत की जा सकती है। इसमें यह भी स्पष्ट लिखे कि यदि शिकायत नहीं ली गई, त आप सीआरपीसी की धाना – 156 (3) के तहत कोर्ट जाएंगे।

ये भी पढ़ें- डिप्टी सीएम बृजेश पाठक ने सीएमओ को फोन लगाकर आखिर क्यों कहा, यहां तो बैंड बजा पड़ा है साहब!

वकील की लें सलाह-

यहां पर भी मामले को गंभीरता से न लिया जाए, तो आप एक वकील की सलाह से कोर्ट जा सकते हैं। वकील आपकी एप्लीकेशन कोर्ट में लगाएगा। कोर्ट पुलिस को एफआईआर करने व आगे की कार्रवाई के आदेश देगी। CrPC की धारा 156 (3) में इसका प्रावधान है। कंप्लेन के बाद फर्जी तरीके से लिए गया सिग्नेचर मान्य नहीं होगा। इसलिए घबराए नहीं, सतर्क रहे।