Monday , January 30 2023

MLC Elections 2022: यूपी विधान परिषद की 36 सीटों पर 9 अप्रैल को वोटिंग, 12 को आएगा रिजल्ट

लखनऊ. MLC Elections 2022- यूपी विधानसभा चुनाव के बाद अब विधान परिषद में बहुमत की जंग छिड़ चुकी है। 15 मार्च से उच्च सदन की 36 सीटों के लिए नामांकन शुरू हो गया है। उत्तर प्रदेश में स्थानीय निकाय कोटे की विधान परिषद की 35 सीटें हैं। इसमें मथुरा-एटा-मैनपुरी सीट से दो प्रतिनिधि चुने जाते हैं इसलिए 35 सीटों पर 36 सदस्यों का चयन होता है। इन सीटों पर 09 अप्रैल को वोटिंग और 12 अप्रैल को रिजल्ट आएगा। स्थानीय निकाय की सीटों पर सांसद, विधायक, नगरीय निकायों, कैंट बोर्ड के निर्वाचित सदस्य, जिला पंचायत व क्षेत्र पंचायतों के सदस्य, ग्राम प्रधान वोटर होते हैं।

स्थानीय निकाय की सीटों पर सांसद, विधायक, नगरीय निकायों, कैंट बोर्ड के निर्वाचित सदस्य, जिला पंचायत व क्षेत्र पंचायतों के सदस्य, ग्राम प्रधान वोटर होते हैं। यूपी में ऐसे वोटरों की संख्या 2854 है। 100 सीटों वाली यूपी विधान परिषद में मौजूदा समय में समाजवादी पार्टी का बहुमत है। परिषद में सपा की 48 सीटें हैं, जबकि भाजपा की 36 सीटें हैं। हालांकि, सपा के आठ एमएलसी अब भाजपा में जा चुके हैं वहीं, बसपा के एक एमएलसी भी भाजपा में आये हैं। विधान परिषद में किसका बहुमत रहेगा यह काफी हद तक विधानसभा के संख्या बल से ही तय होती है।

अपर्णा यादव भी बन सकती हैं एमएलसी
बीजेपी सूत्रों की मानें तो शनिवार को मुख्यमंत्री आवास पर हुई बैठक में भाजपा संगठन ने स्थानीय निकाय के एमएलसी के नाम तय कर लिए हैं। इनमें सपा से आए कुछ एमएलसी को ही टिकट दिया जाएगा, बाकी भाजपा कार्यकर्ताओं के नाम पर मुहर लगाई गई है। इस लिस्ट में मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव का भी नाम हो सकता है।

हारे हुए मंत्रियों को मौका दे सकती है बीजेपी
2024 के चुनावी समीकरणों को देखते हुए भारतीय जनता पार्टी विधान परिषद की खाली हो रहीं सीटों पर हारे मंत्रियों को मौका दे सकती हैं, ताकि उनकी मंत्री की कुर्सी बरकरार रहे। इनमें केशव प्रसाद मौर्य, सुरेश राणा, सतीश द्विवेदी, उपेंद्र तिवारी प्रमुख नाम हैं। गौरतलब है कि यूपी विधानसभा चुनाव में 11 मंत्री हार गये हैं।