Monday , January 30 2023

यूपी के 30 लाख कर्मचारियों और पेंशनर्स को सीएम योगी ने दी बड़ी सौगात, मिलेगा 5 लाख का सीधा लाभ

लखनऊ. उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार (Yogi Adityanath Government) ने राज्य कर्मचारियों और पेंशनरों को बहुत बड़ी खुशखबरी दी है। योगी सरकार ने प्रदेश के 28 लाख राज्य कर्मचारियों (State Government Employees) और पेंशनरों (Pensioners) को कैशलेस चिकित्सा सुविधा (Cashless Treatment) देने का ऐलान किया है। सरकार ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय राज्य कर्मचारी कैशलेस चिकित्सा योजना (Pandit Deendayal Upadhyay State Employees Cashless Medical Scheme) शुरू की है। इस योजना के तहत अब यूपी के कर्मचारी फ्री में अपना इलाज करा सकेंगे। प्रदेश में यह व्यवस्था लागू होने के बाद अब कर्मचारियों, पेंशनर्स और उनके परिजनों के हेल्थ कार्ड बनाए जाएंगे। साथ ही प्रदेश में आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (Ayushman Bharat Pradhanmantri Jan Arogya Yojana) के तहत संबद्ध प्राइवेट हॉस्पिटल में सरकारी कर्मचारियों, पेंशनरों और उनके परिजनों को कैशलेस 5 लाख रुपये तक इलाज की सुविधा दी जाएगी।

कर्मचारियों और पेंशनर्स को कैशलेस इलाज की सुविधा
आपको बता दें कि राज्य कर्मचारी और पेंशनर्श पिछले करीब एक दशक से कैशलेस इलाज की सुविधा मांग रहे थे। ऐसे में यूपी विधानसभा चुनाव से ठीक पहले में सीएम के इस फैसले को कर्मचारियों व पेंशनर्स को खुश करने का सरकार का बड़ा कदम माना जा रहा है। उत्तर प्रदेश सरकार के स्वास्थ्य विभाग ने पिछले दिनों कर्मचारियों और पेंशनर्श को कैशलेस इलाज की सुविधा दिये जाने के लिए शासन को प्रस्ताव भेजा था। इस प्रस्ताव के तहत राज्य सरकार के कर्मचारियों और पेंशनर्स को प्राइवेट कंपनियों की तर्ज पर ही कैशलेस इलाज की सुविधा दी जानी है। अब राज्य सरकार ने इस प्रस्ताव के लिए अपनी सहमति भी दे दी है।

5 लाख तक कैशलेस अलाज
मंत्री परिषद के फैसले के मुताबिक अब आयुष्मान योजना (Ayushman Yojana) की तरह ही राज्य कर्मचारियों को भी 5 लाख रुपये तक की कैशलेस इलाज की सुविधा मिलेगी। अब तक राज्य कर्मचारी और पेंशनर्स केवल सरकारी हॉस्पिटल, मेडिकल कॉलेजों या अधिकृत अनुबंधित अस्पतालों में ही फ्री इलाज करा सकते थे, लेकिन अब उन्हें कैशलेस इलाज की सुविधा मिलेगी। इसके तहत अब इलाज का बिल उन्हें कैश में नहीं देना होगा। इसके लिये राज्य सरकार द्वारा लाभार्थियों को एक कार्ड दिया जाएगा। जिसके जरिए वे अपना इलाज करा सकेंगे। इलाज का खर्च संबंधित बीमा कंपनी देगी, जिसका राज्य सरकार के साथ करार होगा।

चुनाव से पहले सरकार का बड़ै फैसला
जानकारी के मुताबिक उत्तर प्रदेश के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह (Jay Pratap Singh) ने कहा है कि राज्य में पंडित दीनदयाल उपाध्याय राज्य कर्मचारी कैशलेस चिकित्सा योजना लागू की जा रही है। इस फैसले से करीब 30 लाख कर्मचारियों और पेंशनर्स को सीधा लाभ मिलेगा। आपको बता दें कि इसस पहले राज्य सरकार ने आयुष्मान योजना के तहत सभी लोगों के लिए 5 लाख रुपये तक के इलाज की व्यवस्था निर्धारित की है। लेकिन अब यूपी विधानसभा चुनाव 2022 को देखते हुए सीएम योगी ने राज्य के कर्मचारियों और पेंशनर्स के लिए भी इस व्यवस्था को लागू करने का फैसला लिया है।