Monday , January 30 2023

Russia Ukraine War: यूक्रेन कई शहरों में घुसी रूसी सेना, अब तक 137 नागरिकों की मौत, जंग रोकने के लिए यूक्रेनी राष्ट्रपति का बड़ा बयान

ukraine president volodymyr zelenskyy

नई दिल्ली. Russia Ukraine War- यूक्रेन पर लगातार दूसरे दिन भी रूस के हमले जारी हैं। यूक्रेन की राजधानी कीव शुक्रवार सुबह 7 बड़े धमाकों से दहल गई। अब तक जंग में यूक्रेन के 137 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं, यूक्रेन ने भी 800 से ज्यादा यूक्रेनी सैनिकों को मार गिराने का दावा किया है। यूक्रेन के कई शहरों में रूसी सेना घुस चुकी है। यूक्रेनी राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने आशंका जताई है कि अगले 96 घंटे, यानी 4 दिन में कीव पर रूस का कब्जा हो जाएगा। उन्होंने कहा कि रूसी सेनाएं रिहाइशी इलाकों को टारगेट कर रही हैं। लोग घरों, सबवे और अंडरग्राउंड शेल्टर में छिपे हुए हैं। खाने-पीने से लेकर रोजाना की जरूरत की चीजों की कमी से नागरिकों को सामना करना पड़ रहा है। यूक्रेन के रक्षा मंत्रालय ने अपने नागरिकों से कहा है कि सभी लोग रूसी सेना के उपकरणों के मूवमेंट के बारे में जानकारी देते रहें। साथ ही उन पर पेट्रोल बम से हमला करें।

यूक्रेन के राष्ट्रपति ने कहा है कि देर-सबेर रूस को हमसे बात करनी ही होगी। बात जितनी जल्दी बात शुरू होगी, नुकसान उतना कम होगा। कहा कि रूस को हमसे बात करनी ही होगी और हमें बताना होगा कि दुश्मनी को कैसे खत्म किया जाए। इस दौरान उन्होंने रूसी नागरिकों से अपील की है कि वे इस जंग के खिलाफ प्रदर्शन करें। यूक्रेन ने 18 से 60 साल के पुरुषों को देश छोड़ने पर रोक लगा दी है। कुछ रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि यूक्रेन ने अपने 10 हजार नागरिकों को मुकाबले के लिए राइफलें दी हैं।

रूस के साथ जंग में अकेला पड़ा यूक्रेन
यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की ने कहा कि उन्हें उम्मीद थी कि रूस के खिलाफ जंग में अमेरिका और NATO उनकी मदद करेंगे, लेकिन अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने यूक्रेन में सेना भेजने से इनकार कर दिया। कहा कि दुनिया ने हमें जंग लड़ने के लिए अकेला छोड़ दिया है। हर कोई डरता है। अब यूक्रेन अपने दम पर रूस के साथ जंग लड़ेगा। वहीं, अमेरिका ने ऐलान किया है कि वह यूरोप में 7000 एक्स्ट्रा फोर्सेस की तैनाती कर रहा है।

यूक्रेन के 137 नागरिकों की मौत
जेलेंस्की ने कहा कि ज्मीनई द्वीप की रक्षा करते हुए बॉर्डर पर तैनात यूक्रेनी जवान शहीद हो गये लेकिन उन्होंने रूसी सेना के सामने सरेंडर नहीं किया। कहा कि दुर्भाग्य से आज हमने अपने 137 नागरिकों समेत 10 सैन्य अधिकारियों को खो दिया। उन सभी को मरणोपरांत यूक्रेन के हीरो की उपाधि से सम्मानित किया जाएगा। उन्हें हमेशा याद रखा जाएगा।