Tuesday , February 7 2023

कप, चम्मच, छुरी, काटें जैसी 19 चीजें एक जुलाई से होंगी बैन, देखें पूरी लिस्ट, नियम तोड़ने पर होगी जेल

लखनऊ.Single Use Plastic- केवल एक बार ही इस्तेमाल किये जाने वाले प्लास्टिक उत्पाद जो पर्यावरण में जहर फैला रहे हैं, उन पर केंद्र मंत्रालय ने प्लास्टिक अपशिष्ट प्रबंधन संसोधन अधिनियम 2021 (Plastic Waste Management Amendment Act 2021) के तहत प्रतिबन्ध लगाने की घोषणा की है| और सिंगल यूज़ प्लास्टिक के खिलाफ ‘प्लास्टिक फ्री लाइफ’ थीम के आधार पर ‘रिडक्शन अवेयरनेस सर्कुलर एंड मास इंगेजमेंट’ (रेस) नाम से बुधवार को एक जागरूकता अभियान चलाया जायेगा| पर्यावरण संरक्षण को बढ़ावा देने के लिए आरडब्लूए, फोनरवा जैसी कई अन्य एजेंसियां सड़क पर लोगों को एसयूपी वाले प्रोडक्ट्स को नहीं यूज़ करने के लिए जागरूक व प्रोत्साहित करेंगे|

राजधानी लखनऊ में पांच दिवसीय जागरूकता महाअभियान के तहत अलग-अलग थीम के साथ अलग-अलग जगहों पर कार्यक्रम आयोजित किया जायेगा| इसके अलावा स्कूलों, पार्क्स, बाजार, मंडी, रेलवे लाइन और अन्य जगहों पर जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया जायेगा|

सिंगल यूज़ प्लास्टिक क्या है?
सिंगल यूज प्लास्टिक या डिस्पोजेबल प्लास्टिक, केवल एक बार उपयोग किए जाने के बाद उन्हें फेंक दिया जाता है या पुनर्नवीनीकरण किया जाता है। ये आइटम प्लास्टिक बैग, स्ट्रॉ, कॉफी स्टिरर, सोडा और पानी की बोतलें और अधिकांश खाद्य पैकेजिंग जैसी चीजें होती हैं।

सजा व जुर्माना
नियमों का उल्लंघन करने वालों को पर्यावरण संरक्षण अधिनियम के तहत 5 साल की जेल और 1 लाख रूपए का जुर्माना देना होगा| दोबारा उल्लंघन करने पर 7 साल की जेल होगी और साथ ही शहरी निकाय भी कार्यवाही कर सकता है|

किन एसयूपी प्रोडक्ट्स पर रोक? (Which SUP products are banned)
1) 100 माइक्रोन से कम के प्लास्टिक या पीवीसी बैनर
2) थर्मोकॉल, कप, प्लेट, चाकू, कटलरी, गिलास, चमच्च, छूरी-कांटे, ट्रे, स्ट्रॉ, मिठाई के डिब्बे, निमंत्रण कार्ड, सिगरेट के पैकेट, रैप या पैक करने वाली फिल्म
3) चाय-कॉफ़ी को कप में हिलने वाली स्टिरेर
4) एसयूपी की स्टिक वाले झंडे, गुब्बारे, ईयर-बड्स, आइसक्रीम स्टिक्स, कैंडी