Saturday , January 28 2023

सपा विधायक पर कसा योगी सरकार का शिकंजा, भाई का आलीशान मकान हुआ कुर्क, भतीजे पर लगा है गैंगस्टर एक्ट

बाराबंकी. उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार में पुलिस-प्रशासन का अपराधियों पर शिकंजा और ज्यादा कसता जा रहा है। इसी क्रम में राजधानी लखनऊ से सटे जिले बराबंकी में भी गैंगस्टर एक्ट के तहत सपा विधायक के खिलाफ बड़ी कार्रवाई हुई है। यहां सपा विधायक के भाई के मकान की कुर्की हुई है। दरअसल यहां सपा विधायक के भतीजे पर गैंगस्टर का केस दर्ज है। पुलिस ने गैंगस्टर एक्ट की धारा 14 (1) के तहत कार्रवाई की है। कुर्की को लेकर बाराबंकी के डीएम डा. आदर्श सिंह ने आदेश जारी कर दिया है।

सरकार का कसा शिकंजा
दरअसल बाराबंकी में सदर विधानसभा सीट से सपा विधायक धर्मराज यादव उर्फ सुरेश यादव के भाई धर्मेंद्र यादव और उनके भतीजे अर्जुन यादव पर पुलिस-प्रशासन का शिकंजा कस गया है। गैंगस्टर एक्ट के तहत जिला और पुलिस प्रशासन ने धर्मेंद्र यादव का मकान कुर्क किया है। जिला मजिस्ट्रेट डा. आदर्श सिंह ने मकान कुर्क करने का आदेश दिया है, जिसकी कीमत 95 लाख आकी गई। दरअसल धर्मेंद्र यादव के बेटे अर्जुन यादव पर 2020 में गैंगस्टर एक्ट का मुकदमा लिखा गया था, जिसके अंतर्गत यह कार्रवाई की गई है।

गैंगस्टर का दर्ज है मुकदमा
बाराबंकी की नगर कोतवाली क्षेत्र के मुनेश्वर विहार में स्थित धर्मेंद्र यादव के मकान की कीमत का आकलन लोक निर्माण विभाग की टीम ने 95 लाख रुपये किया था। इस आलीशान मकान को पुलिस-प्रशासन की मौजूदगी में आज कुर्क किया गया है। आठ अक्टूबर 2020 को सतरिख थाना के तत्काल प्रभारी निरीक्षक बृजेश कुमार वर्मा ने गैंगस्टर का मुकदमा लिखाया था। इसमें विनोद यादव, उमेश यादव, राजकुमार, पंकज वर्मा, दीपक कुमार, अवधराम, पंकज यादव और सपा विधायक का भतीजा और सपा नेता धर्मेंद्र यादव का पुत्र अर्जुन यादव को नामजद किया गया था। विनोद यादव को गैंग डीलर बताया गया है। इसी मुकदमे के क्रम में जिला प्रशासन यह कार्रवाई की गई है।

कुर्क किया गया मकान
आपको बता दें कि प्रथम दृष्टया पुलिस-प्रशासन की जांच में यह तथ्य सामने आया था कि सपा विधायक के भतीजे अर्जुन यादव पर गैंगस्टर एक्ट का मुकदमा है और इसी मकान में उसने अवैध खनन से अर्जित धन लगाया है। जिसके बाद इसे कुर्क करने का आदेश दिया गया। बाराबंकी के अपर पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार पांडेय ने बताया कि इस गिरोह के सदस्यों की अब तक पांच करोड़ 75 लाख 79 हजार 500 रुपये कीमत की संपत्ति कुर्क की जा चुकी है। 95 लाख कीमत के इस मकान को कुर्क करने के बाद यह आंकड़ा छह करोड़ 70 लाख 79 हजार 500 हो जाएगा। अन्य सदस्यों की संपत्ति भी चिन्हित की जा रही है।