Wednesday , February 8 2023

Russia Ukraine War: रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध जारी, यूक्रेन के राष्ट्रपति का दावा- साथी देश भेज रहे हथियार, फ्रांस ने चेताया- लंबी जंग को तैयार रहे दुनिया

मॉस्को. Russia Ukraine War- रूस और यूक्रेन के बीच आज युद्ध का तीसरा दिन है। रूस की ओर यूक्रेन पर लगातार हमले किये जा रहे हैं वहीं, न झुकने की बात कहकर यूक्रेनी राष्ट्रपति अपने रुख पर अडिग हैं। एक वीडियो संदेश में यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की ने लोगों से कहा है कि यूक्रेनी सेना की घुटने टेकने से जुड़ी बातें महज अफवाह हैं। हम लोग आखिरी दम तक लड़ेंगे। यूक्रेन ने दावा किया है कि उसने रूस के 3500 सैनिकों को मार गिराया है जबकि 200 से ज्यादा सैनिकों को बंधक बना लिया है। इस बीच फ्रांस ने लंबी जंग के लिए दुनिया को चेताया है। रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोवने एक बार फिर दुनिया को भरोसा दिलाया है कि यूक्रेन पर हमले में वहां के नगारिकों के जान माल का नुकसान नहीं होने देंगे। हालांकि, पश्चिमी मीडिया रूस के इस भरोसे को महज दिखावा बताया है। उधर, यूक्रेन से भारतीयों को वापस लाने की कोशिश जारी हैं। बड़ी संख्या में मेडिकल स्टूडेंट सहित भारतीय यूक्रेन में फंसे हैं। इनमें उत्तर प्रदेश के करीब 350 नागरिकों के फंसे होने की बात कही जा रही है।

28 देश कर रहे यूक्रेन की मदद
किसी भी पश्चिमी देशों ने यूक्रेन को सीधी सैन्य मदद देने का भरोसा नहीं दिया है, लेकिन अब 28 देशों ने यूक्रेन को रूस से लड़ने के लिए और ज्यादा हथियार भेजने का भरोसा दिया है। यूक्रेन के राष्ट्रपति व्लोदमीर जेलेंस्की ने भी कहा है कि पश्चिमी देशों से हथियारों की आपूर्ति हो रही है। स्काई न्यूज के मुताबिक अमेरिका, ब्रिटेन सहित 28 देश इस बात पर सहमत हो गए हैं कि यूक्रेन को और अत्याधुनिक हथियार भेजे जाएं। इसके साथ ही मेडिकल सप्लाई और अन्य मिलिट्री संसाधन देने का वादा भी किया गया है।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत ने की हमले की निंदा
संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) में भारत और चीन ने यूक्रेन पर हमले की निंदा की है, लेकिन सुरक्षा परिषद के वोट से परहेज किया है। यूक्रेन पर यूएनएससी मीटिंग में संयुक्त राष्ट्र में भारत के प्रतिनिधि टी.एस. तिरुमूर्ति ने कहा- यूक्रेन में जो हुआ, भारत उससे बेहद परेशान है। आग्रह है कि हिंसा और शत्रुता को तत्काल खत्म करने सभी प्रयास किए जाएं। उन्होंने कहाकि मतभेदों और विवादों को निपटाने के लिए संवाद ही एकमात्र विकल्प है।