Monday , January 30 2023

Kashi Vishwanath Corridor के लोकार्पण से पहले दुल्हन की तरह सजी वाराणसी जानें- क्या है काशी का माहौल

वाराणसी. Kashi Vishwanath Corridor- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को भव्य व दिव्य बाबा विश्वनाथ धाम का लोकार्पण करेंगे। इस दौरान पूरे वाराणसी को दुल्हन की तरह से सजाया गया है। सड़कें चमाचम हैं और खम्बों में रंग-बिरंगी लाइटें लिपटी हुई हैं। पुलिस-प्रशासन का सख्त पहरा है। गंगा किराने बने सभी घाटों को रंगोली आदि से सजाया जा रहा है। इसकी जिम्मेदारी प्राइमरी टीचर्स को सौंपी गई है। खासकर ललिला घाट पर आम लोगों की आवाजाही पर रोक लगा दी गई है। क्रूज से मां गंगा निहारने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ललिता घाट से गंगाजल लेकर बाबा विश्वनाथ का जलाभिषेक करेंगे। मंदिर परिसर को गेंदा, गुलाब और चमोली आदि तरह-तरह के फूलों से सजाया गया है। देश-विदेश के कोनों से भगवान भोले के भक्त बनारस पहुंचे हैं। सुबह से ही घाटों पर स्नान और नौका विहार का दौर जारी है।

रविवार को भी काशी रोजाना की तरह अपनी रौ में बह रही थी। चाय की दुकानों पर लोग जमा थे, लेकिन आज चर्चा भव्य विश्वनाथ कॉरिडोर की हो रही थी, ज्यादातर लोग उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ कर रहे थे। हालांकि, कुछ लोग ऐसे भी थे जिनका कहना था कि सिर्फ कार्यक्रम के चलते ही बनारस की सड़कों को दुरुस्त किया गया है, वरना हालत खराब थी। दही-जलेबी का नाश्ता भी चल रहा था, लेकिन यहां चर्चा का केंद्र बाबा विश्वनाथ का भव्य धाम ही था।

पीएम मोदी की तारीफ
देश के कोने-कोने से आये लोगों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जमकर सराहना की। कहा कि उनकी सरकार में अय़ोध्या ही नहीं काशी का खूब विकास हुआ है। कम समय में भव्य काशी विश्वनाथ के लोकार्पण के लिए लोगों प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री योगी आदितत्यनाथ को बधाई दी। कहा कि हम भगवान भोलेनाथ से दुआ करते हैं कि अगली बार भी नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री और योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बनें।

700 करोड़ की लागत से तैयार विश्वनाथ कॉरिडोर
काशी में बाबा विश्वनाथ का भव्य और दिव्य धाम बनकर तैयार है। 700 करोड़ रुपए की लागत से बना काशी विश्वनाथ कॉरिडोर 54 हजार वर्ग मीटर में फैला है। 8 मार्च 2019 को पीएम मोदी ने विश्‍वनाथ धाम प्रोजेक्‍ट का शिलान्यास किया था। 13 दिसंबर को अभिजीत मुहूर्त और रवियोग में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी धाम का लोकार्पण करेंगे। देश के सभी संप्रदायों के प्रमुख संत, 12 ज्‍योर्तिलिंगों के पुजारी, संत और अतिथि इस महा आयोजन के गवाह बनेंगे। इनमें 18 राज्यों के मुख्यमंत्री भी शामिल होंगे। दुनियाभर के मंदिरों और मठों में विश्‍वनाथ धाम के लोकार्पण का सजीव प्रसारण किया जाएगा। वहीं, लोकार्पण का प्रसाद बनारस के आठ लाख घरों में पहुंचेगा।

पीएम मोदी का कार्यक्रम
13 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पूर्वाह्न करीब 11 बजे बाबतपुर एयरपोर्ट पहुंचेंगे और यहां से सेना के हेलीकॉप्टर से वे संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय के मैदान पर बने हेलीपैड पर पहुंचेंगे। यहां से सड़क मार्ग से वे खिड़किया घाट पहुंचेंगे। क्रूज से मां गंगा को निहारते हुए ललिता घाट जाएंगे। गंगा तट पर बने गेटवे ऑफ कॉरिडोर के रास्ते गंगाजल हाथ में लेकर काशी विश्वनाथ के धाम पहुंचेंगे। करीब एक बजे सभी सम्प्रदायों के प्रमुख संतों के मंत्रोच्चार के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भव्य दरबार को भक्तों को समर्पित करेंगे। मंदिर चौक पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश भर के संतों से संवाद करेंगे। इसके बाद क्रूज से रविवास घाट आएंगे और फिर सड़क मार्ग से बनारस रेल कारखाना के अतिथि गृह पहुंचेंगे। इसी दिन शाम को प्रधानमंत्री भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री व उप मुख्यमंत्री के साथ क्रूज पर सवार होकर गंगा आरती भी निहारेंगे। उनकी मौजूदगी में काशी विश्वनाथ धाम के घाट पर गंगा आरती का शुभारंभ किया जाएगा। 14 दिसंबर को भी प्रधानमंत्री वाराणसी में ही रहेंगे। बरेका सभागार में मुख्यमंत्री उनके सामने सुशासन का ब्यौरा देंगे।