Tuesday , February 7 2023

Omicron से ‘डर’ कैसा?

Omicron In India update. इस वर्ष मार्च में आई कोरोना की दूसरी लहर (corona third wave) के दृश्य अभी भी हम सभी के मस्तिष्क में बसे हुए हैं। करीब हर दूसरे जानने वाले के करीबी ने इस त्रासदी में जान गंवाई थी। जब कोरोना के काले बादल छटने शुरू हुए तो ईश्वर से हमने केवल यही प्रार्थना की कि ऐसी मानव तबाही दोबारा न आए। लेकिन अब हम खुद उसे न्योता देते दिख रहे हैं। कोरोने के नए वेरिएंट ओमीक्रॉन (Omicron) ने देश में दस्तक दे दी है। अब तक देश के कुल 14 राज्यों में 225 ओमीक्रॉन के केस सामने आ चुके हैं, जिनमें 65 मरीज महाराष्ट्र में हैं और 54 मरीज दिल्ली के शामिल हैं। राहत की बात यह है कि इससे अभी तक किसी की मौत नहीं हुई है। लेकिन यह भी चिंताजनक है कि बीते पांच दिनों में ही मामले दोगुने हो गए हैं।

डब्ल्यूएचओ व केंद्रीय स्वास्थ्य विभाग ने साफ कहा कि यह वेरिएंट पहले से अधिक संक्रामक है। अलर्ट भी जारी कर दिया गया है। लेकिन लोगों में न तो पहले जैसा डर है और न ही प्रशासन में इसकी रोकथाम को लेकर पहले जैसी सक्रियता। क्रिसमस और नए वर्ष के जश्न के दिन जितने करीब आते जा रहे हैं, लोग उतने ही लापरवाह होते जा रहे हैं। दूर क्यों जाना, बस अपने नजदीक के बाजार का ही रुख कर लीजिए और देख लीजिए कितने ही लोग कोरोना सावधानियों को अनसुना अनदेखा कर रहे हैं। टैक्सी, बस, ट्रेन, फ्लाइट, दफ्तर सब में एक ही स्थिति है। और जब चुनावी प्रचार के दौरान ही नियमों की धज्जियां उड़ाई जा रही हों, हजारों हजारों लोग बेफिक्र होकर शामिल उसमें शिरकत कर रहे हों और नेता केवल अपनी बढ़ाई करने में लगे हों तो, ऑमीक्रॉन से भला कैसा डर।

अभी तक के आंकड़ों और इन नए वेरिएंट पर पैनी नजर बनाए रखे डॉक्टरों और विशेषज्ञों की मानें, तो अभी वे किसी निष्कर्ष तक पहुंचने के लिए और आंकड़ों की प्रतीक्षा कर रहे हैं। एम्स के डॉयरेक्टर डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कहा कि ओमिक्रॉन ज्यादा संक्रामक है। अब तक जितना भी डेटा मिला है उसके मुताबिक ओमिक्रॉन में हल्की बीमारी के ही लक्षण हैं। लेकिन इसकी तेज रफ्तार को देख लोगों को सतर्क रहने व वैक्सीनेट होने की शीघ्र जरूरत है। चुनावी रैलियों में मंत्रमुग्ध नेताओं को भी जिम्मेदारी लेनी चाहिए कि वो लोगों को इसके प्रति जागरूक करें। यदि हमने अभी बीती दो लहरों से सबक नहीं लिया, तो एक बार फिर हम लोग केवल हाथ मलते रह जाएंगे।

– अभिषेक गुप्ता