Monday , January 30 2023

टीबी की जंग को जीतने में पोषण की अहम भूमिका

प्रयागराज  : जनपद को क्षय रोग मुक्त बनाने के मुहिम में कार्य करते हुए आज अन्हा ब्लड बैंक सिविल लाइन्स में नर्सिंग एसोसिएशन की तरफ से 50 क्षय रोगियों को नर्सिंग एसोसिएशन के प्रेसिडेंट अजय सक्सेना, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ नानक सरन व जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ एके तिवारी ने पोषाहार का वितरित किया। पोषाहार वितरण कार्यक्रम में पीपीएम कोऑर्डिनेटर आशीष सिंह, एसटीएस सर्वेश,एसटीएस दिनेश व स्वास्थ्य विभाग के अन्य कर्मचारीगण उपस्थित रहे।

डॉ नानक सरन ने उपस्थित टीबी मरीजों को इलाज के बारे में समझाया व मरीजों से इलाज में आ रही समस्याओं के बारे में जाना। इस मौके पर सभी टीबी मरीजों ने अपनी-अपनी समस्या को सीएमओ के सामने रखा व इलाज के लिए विभाग के द्वारा दी जा रही निःशुल्क दवा के बाद अब मिलने वाले पोषाहार को पाकर अपनी खुशी जाहिर की। डॉ नानक सरन ने मरीजो से कहा की उन्होंने कहा कि दवा के साथ साथ पोषण युक्त आहार का सेवन भी बहुत जरुरी हैं आपके इस पहल से निश्चित तौर पर 2025 तक देश से टीबी को हराने में हम सभी सफल होंगे।

जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ एके तिवारी ने बताया कि नियमित दवा का सेवन ही टीबी को हारा सकता है। इसलिए मरीज दवा को बीच में न छोड़ें। समय से दवा का सेवन अवश्य करे | उन्होंने बताया कि जनपद में लगातार संस्थानों के जरिये टीबी मरीजों को गोद लिया जा रहा है। इनका नि:शुल्क उपचार होने के साथ-साथ इन्हें पोषण के लिए 500 रुपये का पोषण भत्ता हर माह इनके खाते में भेजा जा रहा है। साथ ही विभाग टीबी उन्मूलन के लक्ष्य को जल्द से जल्द प्राप्त करने के लिए हर टीबी मरीज को प्रत्येक माह पौष्टिक आहार (पोषाहार) वितरित कर रहा है। स्वास्थ्य विभाग के आह्वान पर क्षय रोगियों को गोद लेने के लिए अन्य विभाग व स्वयंसेवी संस्थाएं भी आगे आएँ। उन्होंने संपन्न लोगों से भी अपील की हैं कि वे भी आगे आये और देश को टीबी मुक्त बनाने में अपना सहयोग प्रदान करें उन्होंने कहा कि आपसी समन्वय व सहयोग से हम सभी को मिलकर टीबी मुक्त भारत बनाना है।

कितन जरुरी पोषण ये भी जाना
पोषण किट पाने वाली सुलेमसराय क्षेत्र निवासी लाभार्थी प्राची ने कहा कि ‘पोषण किट मिला तो बहुत अच्छा लगा । यहाँ आकर मुझे और बहुत साडी जानकारी भी मिली हैं | समय से खाना –पीना और दवा खाने से ये बीमारी ठीक हो जाएगी मैं बीते दो माह से टीबी की दवा का नियमित सेवन कर रही हूँ। सरकार की ओर से इस मदद के लिए मैं धन्यवाद कहना चाहूंगी और मेरे जैसे बाकी जो भी टीबी मरीज हैं उनसे बस यही कहना चाहूंगी की दवा का कोर्स पूरा करें व अपने खानपान पर विशेष ध्यान दें।