Tuesday , February 7 2023

नीट एग्जाम के दौरान परीक्षा केंद्र की बड़ी लापरवाही, इस वजह से डेढ़ घंटे बाद शुरू हो सका पेपर


बाराबंकी. NEET Exam 2022: नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस ट्रेस्ट-अंडरग्रेजुएट (नीट) परीक्षा खत्म हो गई है। नेशनल टेस्टिंग एजेंसी ने नीट यूजी 2022 परीक्षा का आयोजन आज देश के तमाम शहरों में किया था। इसी क्रम में राजधानी लखनऊ से सटे बाराबंकी जिले में भी कई परीक्षा केंद्रों पर नीट की परीक्षा आयोजित की गई थी। लेकिन इस दौरान बाराबंकी के एक परीक्षा केंद्र पर बड़ी लापरवाही सामने आई। जिसके चलते नीट की परीक्षा निश्चित समय से डेढ़ घंटे के बाद शुरू हो सकी।

नीट परीक्षा में बड़ी लापरवाही
पूरा मामला बाराबंकी जिले की नगर कोतवाली क्षेत्र के आवास विकास में स्थित सेंट्रल अकादमी स्कूल का है। जहां आज होने वाली नीट परीक्षा का केंद्र बनाया गया था। परीक्षा के निश्चित समय पर छात्र-छात्राएं एग्जाम सेंटर पर पहुंचे और अपने-अपने रोल नंबर के हिसाब से एग्जामिनेशन हॉल में बैठ गए। अभी तक तो सब ठीक चल रहा था लेकिन परीक्षा का पेपर बंटते ही बच्चों में हड़कंप मच गया। क्योंकि छात्र-छात्राओं के मुताबिक हिंदी मीडियम में परीक्षा देने आए बच्चों को इंग्लिश मीडियम का पेपर बंट गया और इंग्लिश मीडियम में परीक्षा देने आए बच्चों को हिंदी मीडियम में नीट का पेपर बांटा गया।

छात्र-छात्राओं में अफरा-तफरी
वहीं जब इस बात का खुलासा हुआ तो कॉलेज प्रशासन ने आनन-फानन में सभी बच्चों के पेपर वापस ले लिए और परीक्षा रुक गई। इस दौरान करीब डेढ़ घंटे तक परीक्षा रुकी रही और एग्जामिनेशन सेंटर पर बच्चे खाली बैठे रहे। छात्र छात्राओं के बीच काफी अफरा-तफरी का माहौल रहा क्योंकि कोई भी इस बात का जवाब नहीं दे पा रहा था कि आखिर परीक्षा कब शुरू होगी। इस दौरान कॉलेज प्रशासन भी बच्चों के सवालों के सामने चुप रहा और परीक्षा डेढ़ घंटे बाद शुरू हो सकी।


अभिभावक भी हुए परेशान
एग्जामिनेशन सेंटर पर परीक्षा देर से शुरू होने के चलते निर्धारित समय से करीब डेढ़ घंटे बाद खत्म भी हुई। जिसके चलते कॉलेज के बाहर अपने-अपने बच्चों को लेने आए अभिभावकों में बेचैनी रही। क्योंकि कॉलेज प्रशासन की तरफ से अभिभावकों को जवाब देने के लिए कोई तैयार नहीं था कि आखिर डेढ़ घंटे बाद भी बच्चे परीक्षा केंद्र से बाहर क्यों नहीं निकल रहे हैं। इस दौरान अभिभावकों का सब्र भी टूटा और उनका गुस्सा भी काफी बढ़ गया। तय समय से डेढ़ घंटे बाद जब छात्र-छात्राएं परीक्षा केंद्र से बाहर निकले तब जाकर अभिभावकों में चैन की सांस ली।

बच्चों ने बताई असल वजह
वह इस दौरान परीक्षा केंद्र से बाहर निकलने के बाद छात्र छात्राओं ने बताया की परीक्षा शुरू होते ही उन्हें गलत पेपर बांट दिए गए थे। इंग्लिश मीडियम वाले बच्चों को हिंदी मीडियम का पेपर और हिंदी मीडियम वाले बच्चों को अंग्रेजी मीडियम का पेपर दे दिया गया था। जब इस बात की जानकारी परीक्षा केंद्र पर मौजूद लोगों को हुई तो आनन-फानन में उन्होंने सभी से एग्जामिनेशन का पेपर वापस ले लिए और परीक्षा बाधित हो गई। बच्चों ने बताया कि वह लोग एग्जामिनेशन हॉल में करीब डेढ़ घंटे तक खाली बैठे रहे, लेकिन कोई इस बात का जवाब देने को तैयार नहीं था कि आखिर परीक्षा कब शुरू होगी। जिसके चलते उन्हें अपने भविष्य को लेकर भी काफी डर लग रहा है। हालांकि डेढ़ घंटे बाद जब उन्हें दोबारा पेपर बांटे गए तो उन्होंने अपना एग्जाम दिया और इसी वजह से उनका पेपर भी देर में खत्म हुआ। वहीं परीक्षा में देरी की वजह पूछने पर कॉलेज प्रशासन मिलने को तैयार नहीं हुआ।