Wednesday , February 8 2023

Maharajganj: एआरटीओ ने अपनी सैलरी से दिये 24500 रुपए, मम्मी का मंगलसूत्र बेचकर चालान जमा करने आया था युवक

सुनें खबर…

महाराजगंज. नियम न टूटे और मानवता पर भी भरोसा बना रहे, उत्तर प्रदेश के महाराजगंज जिले में कुछ ऐसा ही एक मामला सामने आया है। जिले के एआरटीओ यानी उप संभागीय परिवहन अधिकारी आरसी भारती ने मां का मंगलसूत्र बेचकर चालान जमा करने आए एक युवक की सच्चाई जानने के बाद अपनी सैलरी से जुर्माना भर दिया। लोग अफसर की तारीफ करते नहीं थक रहे हैं।

महाराजगंज जिले के सिंहपुर ताल्ही गांव निवासी एक ऑटो ड्राइवर का 24,500 रुपए का चालान हुआ था। जुर्माने की रकम जमा करने के लिए बेटे ने मां का मंगलसूत्र भी बेच दिया, बावजूद 13 हजार रुपए ही जुटा सका। परेशान विजय इस आस में एआरटीओ दफ्तर पहुंचा कि शायद जुर्माने की राशि माफ हो जाये। दफ्तर में वह इधर-उधर भटक रहा था। अचानक एआरटीओ आरसी भारती की नजर उस पर पडी और उन्होंने युवक को पास बुलाकर पानी पिलाया और पूरी दास्तान सुनी।

युवक ने एआरटीओ को बताई सच्चाई
एआरटीओ के पूछने पर विजय ने बताया कि उसके पिता राजकुमार ऑटो चलाते हैं, जिन्हें एक आंख से कम दिखता है। बताया कि 24,500 रुपये ऑटो के चालान जमा करना है। मां का मंगलसूत्र बेचने के बाद भी केवल 13 हजार रुपये ही इकट्ठा हो सके हैं। परिवार में छह बहनें हैं। पूरी कहानी सुनने के बाद एआरटीओ का दिल पिघल गया। उन्होंने अपनी सैलरी से न केवल चालान की रकम भर दी बल्कि टेंपो का इंश्योरेंस भी कराया। इतना ही नहीं पढ़ाई छोड़ चुके युवक को फिर से पढ़ाने की पेशकश भी की। एआरटीओ आरसी भारती ने कहा कि मैंने उसकी पीड़ा सुनी और वह मुझे वाजिब लगी। इस वजह से मैंने उसका जुर्माना खुद ही भर दिया है।