Monday , January 30 2023

…तो क्या शिवपाल यादव पहले ही बीजेपी के साथ थे?

लखनऊ. समाजवादी पार्टी के गठबंधन में सहयोगी महान दल के मुखिया केशव देव मौर्य ने शिवपाल यादव को लेकर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने दावा कि शिवपाल यादव का बीजेपी से रिश्ता पहले से ही है। वह हमेशा से ही बीजेपी के साथ रहे हैं। बीजेपी उनके जरिये यादव वोट बांटने का प्लान बना रही है। टीवी चैनल आजतक से बातचीत में केशव देव मौर्य ने कहा कि शिवपाल यादव बहाना बना रहे हैं कि उन्हें विधायक दल की बैठक में नहीं बुलाया गया। वह गठबंधन के सदस्य हैं, सपा की बैठक में क्यों नहीं बुलाए जाएंगे? सपा ने उन्हें नहीं बुलाकर बहुत अच्छा किया।

केशव देव मौर्य ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद मायावती का बंगला खाली कराया गया, जिसे बाद में शिवपाल यादव को अलॉट कर दिया गया। यह लखनऊ का सबसे भव्य बंगला है, जिसे बीजेपी सरकार ने शिवपाल को ऐसे ही थोड़े दिया है। दोनों के अपने स्वार्थ निहित हैं। महान दल के मुखिया ने कहा कि बीजेपी जानती है कि शिवपाल यादव के अलग होने से समाजवादी पार्टी को बड़ा नुकसान होगा। योगी सरकार में शिवपाल यादव बीजेपी की मदद से पीड़ित यादवों की मदद करेंगे, ताकि यादव वोट शिवपाल के साथ आ जाये।

…जब अखिलेश से नाराज हो गये थे शिवपाल यादव
26 मार्च को अखिलेश यादव ने पार्टी के विधायकों की बैठक बुलाई थी, जिसमें शिवपाल यादव को नहीं बुलाया गया था। इससे वह नाराज हो गये और 28 मार्च को बुलाई सपा विधायक दलों की बैठक में वह शामिल नहीं हुए। इसके बाद वह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिले जिसे जिसके बाद उनके भाजपा में शामिल होने की अटकलें तेज हो गई हैं। चर्चा है कि भाजपा उन्हें यूपी से राज्यसभा भेज सकती है, साथ ही इस्तीफे के बाद खाली हुई जसवंतगर सीट पर उपचुनाव में उनके बेटे आदित्य यादव को चुनाव लड़वाने की तैयारी है।