Monday , January 30 2023

अब Lucknow का नाम भी बदल जाएगा, जानें यूपी की राजधानी का पुराना इतिहास


लखनऊ. तो क्या अब यूपी की राजधानी लखनऊ (Lucknow) का नाम भी बदलने वाला है? दरअसल मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath Tweet) के एक ट्वीट के बाद ये सवाल खड़े हो रहे हैं। सीएम योगी ने यह ट्वीट देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वागत में किया था। उन्होंने इस ट्वीट में लिखा कि शेषावतार भगवान श्री लक्ष्मण जी की पावन नगरी लखनऊ में आपका हार्दिक स्वागत व अभिनंदन…।


शुरू हुई नाम बदलने की चर्चा
सीएम योगी ने यह ट्वीट पीएम नरेंद्र मोदी के स्वागत में किया था। सीएम योगी के इस ट्वीट के बाद लोगों की इस मांग को और बल मिल गया। उनका तर्क है कि योगी सरकार ने इसी तरह से राज्य में कई जगहों के नाम बदले हैं। वे इलाहाबाद और फैजाबाद का उदाहरण भी देते हैं, जिनका नाम बदलकर प्रयागराज और अयोध्या कर दिया गया। इसके साथ ही वे याद दिलाते हैं कि कुछ ही दिन पहले नैनी इलाके का नाम बदलकर अटल बिहारी वाजपेयी नगर, लखनऊ के अमौसी एयरपोर्ट का नाम बदलकर पंडित दीनदयाल उपाध्याय एयरपोर्ट और ओवर ब्रिज का नाम बदलकर श्यामा प्रसाद मुखर्जी के नाम पर रखा जा चुका है।

लखनऊ का इतिहास
दरअसल लखनऊ के इतिहास पर अगर नजर डालें तो दस्तावेजों में साफ लिखा है कि यह शहर पहले लक्ष्मण पुरी (Lakshman Puri) था। उसके बाद लखनपुरी हुआ, जो आगे चलकर लखनऊ कर दिया गया। लखनऊ को कौशल राज का हिस्सा बताया गया है। भगवान राम चंद्र के भाई लक्ष्मण ने इस शहर को बसाया था। श्री राम की जन्मभूमि अयोध्या से लखनऊ महज अस्सी किलोमीटर दूर है। बीजेपी के नेताओं ने पहले भी लखनऊ को लक्ष्मण पुरी बताया है। लखनऊ से सांसद और पूर्व मंत्री रहे बीजेपी के दिग्गज नेता लालजी टंडन ने एक किताब लिखी थी, जिसमें लखनऊ को लक्ष्मण नगरी बताया गया। इसके कई प्रमाण भी दिए। लखनऊ में लक्ष्मण टीला, लक्ष्मण पुरी, लक्ष्मण पार्क समेत कई ऐसे स्थान हैं, जो लक्ष्मण के नाम पर हैं। ऐसे में योगी सरकार लखनऊ का नाम बदल के लक्ष्मण पुरी या लखनपुरी करती तो उतना अचरज भी नही होगा, हालांकि फिलहाल यह चर्चा महज सीएम योगी के ट्वीट की वजह से शुरू हुई है। सरकार की तरफ से कागजों में ऐसा कोई प्रस्ताव तैयार नहीं हुआ है।