Tuesday , February 7 2023

Jurassic World Dominion MOVIE REVIEW- नए विजुअल इफेक्ट्स को छोड़ बाकी सब कुछ लगता है देखा-देखा सा

Jurassic World Dominion Review

दिल्ली. Jurassic World Dominion MOVIE REVIEW. Jurassic World Dominion की कहानी इसला नुबलर (Isla Nublar) की तबाही के चार साल बाद की है। Isla Nublar वो आइलेंड था जहां डायनोसॉर रहते थे। डायनोसॉर अब इंसानों के बीच हैं। वहीं नेवी वेट ओवन (Chris Pratt) अपनी पत्नी क्लेयर डियरिंग (Bryce Dallas) और बेटी मेसी के साथ कई वर्षों से डायनोसॉर की एक प्रजाति वेलोकिरेप्टर्स (Velociraptors) को ट्रेन कर रहा है। इस बीत वेलोकिरेप्टर्स बिना नर डायनोसॉर के एक बच्चे को जन्म देती है। परेशानी तब बढ़ती है जब बेबी डायनोसॉर को होस्टेज बना लिया जाता है। यहां वापसी होती एली सैटलर (Laura Dern), एलन ग्रांट (Sam Neil) और आयन मेलकॉम (Jeff Goldblum) की, जो 30 साल पहले जुरासिक पार्क के नायक थे। इसी के साथ जुरासिक युग के एतिहासिक अंत में दो पीढ़ियां साथ आती हैं। ये सभी एक नए और खतरनाक एडवेंचर पर निकलते हैं। क्या ओवेन बेबी डायनोसॉर को बचा पाएगा? और क्या अब डायनोसॉर की दुनिया का अंत हो जाएगा? Jurassic World Dominion इन सवालों के जवाब देती है।

ये भी पढ़ें- Samrat Prithviraj Collection: अक्षय की फिल्म की बढ़ी रफ्तार, लेकिन ‘Bhool Bhulaiyaa 2’ का जलवा कायम

पहले बात फिल्म की खासियत की। फिल्म की सबसे मजबूत कड़ी है इसके विजुअल इफेक्ट्स जो अब तक के सबसे बेहतरीन हैं। बड़े-बड़े डायनोसॉर को आपस में भिड़ते देखाना। इंसानों का शिकार करना जैसे कई सीन्स है, जहां वीएफएक्स का बढ़िया इस्तेमाल किया गया है। साथ ही लौरा डेर्न, सैम नील और जेफ गोल्ब्लम को वर्षों बाद वापस देखना एक इमोश्नल फील देता है। क्रिस प्रैट इस फिल्म की सीरीज में शुरुआत से ही दमदार दिखे हैं। डायनोसॉर के साथ उनका इमोशन्नल कनेक्शन इस बार पहले से कहीं ज्यादा मजबूर है।

बात करें खामियों की तो वो फिल्म में खूब हैं। फिल्म में कुछ नयापन नहीं। एक्शन सीन्स में वो थ्रिल नहीं है, जो दर्शकों को चौका दें। 2015 में आई जुरासिक वर्ल्ड इस मामले में कहीं आगे थी। इसी वजह से पूरी दुनिया में लोगों को इसने चौंकाया और फिल्म ब्लॉकबस्टर साबित हुई। उसी फिल्म के निर्देशक कॉलिन ट्रेवोरो ने ही इस फिल्म को डायरेक्ट किया है, लेकिन इस बार वो कई और मामले में भी चूके हैं। फिल्म में लॉजिक्स की भरपूर कमी है। क्रिस पैट और डायनोसॉर के बीच एक्शन सीक्वेंस बहुत मामूले लगते हैं। मानों कोई खेल हो। पटकथा बिल्कुल भी सच्चाई से मेल नहीं खाती, वहीं कई सवालों के जवाब फिल्म खत्म होने तक नहीं मिलते।

फिल्म को दिए जाते हैं ढाई स्टार। आप फैन हैं इस फ्रैंचाइज के तो बहुत उम्मीद न लगाकर सिनेमाघरों का रुख कर सकते हैं।