Tuesday , February 7 2023

कन्नौज के इत्र कारोबारी के घर से मिला नोटों का जखीरा, 10 मशीनों को नोट गिनने में लग गये 30 घंटे

कानपुर. उत्तर प्रदेश के इत्र कारोबारी पीयूष जैन के घर से नोटों का जखीरा मिला है। आयकर विभाग और डीजीजीआई की छापेमारी में 10, 20, 50 नहीं बल्कि करीब 250 करोड़ रुपए मिले हैं। 7 फीट की अलमारियों में नोटें ठूस-ठूस कर भरी गई थीं। कई लॉकर्स को काटकर नकदी और सोना निकाला गया। शुरुआत में अधिकारियों को लगा कि यह यह रकम थोड़ी होगी, लेकिन जब नोटों के बंडल कमरे में इकट्ठे किये गये तो अंबार लग गया। छापेमारी में मिली रकम इतनी बड़ी है गिनने की तो बात छोड़िये इन्हें इकट्ठा करने में ही अफसरों के पसीने छूट गये। नोटों की गिनती में 10 मशीनों को लगाया गया जो कई बार गरम होकर बंद हो गईं। कंप्यूटर पर एंट्री कर-करके अधिकारियों की उंगलियां दर्द होने लगीं। करीब 30 घंटे से भी अधिक की मशक्कत के बाद नोटों की गिनती की जा सकी। फिलहाल, पुलिस-पीएसी की मौजूदगी में पूरा पैसा बड़े-बड़े बक्सों में भरकर आरबीआई चेस्ट ले जाया गया।

22 दिसंबर को कर चोरी की आशंका में डीजीजीआई की टीमों ने शिखर पान मसाला और गणपति ट्रांसपोर्ट के यहां छापा मारा था। यहां से मिले सुराग के आधार पर अगले दिन यानी 23 दिसंबर को इत्र कारोबारी पीयूष जैन के कानपुर, कन्नौज, गुजरात और मुंबई स्थित घर, फैक्ट्री, दफ्तर, कोल्ड स्टोरेज और पेट्रोल पंप पर कार्रवाई की गई। कानपुर के आनंदपुरी स्थित पीयूष जैन के घर की दीवारों और छतों पर लगी फॉल्स सीलिंग भी तोड़ कर जांच की गई तो हर जगह से नोटों के बंडल मिले जिनकी कुल कीमत 177 करोड़ रुपए है। 24 दिसंबर को नोटों की गिनती पूरी होने के बाद पीयूष को हिरासत में ले लिया गया। पूछताछ के बाद कन्नौज में छापेमारी के दौरान अब तक 80 करोड़ से अधिक की नकदी मिल चुकी है। कार्रवाई अभी भी जारी है। कानपुर और कन्नौज स्थित आवास से 15 किलो सोना और 50 किलो चांदी भी बरामद की जा चुकी है।

कहां से आया इतना पैसा?
पीयूष जैन के कानपुर और कन्नौज स्थित आवास से रेड के दौरान आयकर विभाग और केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी) को कुछ डायरी और बिल भी मिले हैं। इनमें कई कंपनियों से कच्चा माल खरीदने और बेचने का जिक्र है। छापे में शामिल टीम अब इन कंपनियों से संपर्क कर बिलों और डायरी में दर्ज जानकारी की तस्दीक करेगी। जल्द ही जांच के दायरे में कई और बड़े नाम सामने आ सकते हैं। सबसे बड़ा सवाल यह है कि पीयूष जैन के पास इतना पैसा आया कहां से? क्योंकि वह इतना बड़ा कारोबारी भी नहीं है कि पांच साल पहले हुई नोटबंदी के बाद भी अरबों रुपए जुटा सके, वह भी तब जब कोरोना महामारी के चलते डेढ़ साल तक उद्योग धंधे बंद रहे।

कौन हैं पीयूष जैन
आइए जान लेते हैं कि कौन है कि कौन है उत्तर प्रदेश के इत्र कारोबारी पीयूष जैन जिसके घर से मिला है अरबों की नगदी। कन्नौज के मूल निवासी पीयूष जैन का नाम शहर के बड़े इत्र व्यापारियों में शुमार है। पीयूष जैन 40 से ज्‍यादा कंपनियों के मालिक हैं। इनमें से दो कंपनियां मिडिल ईस्ट में हैं। कन्‍नौज में पीयुष की परफ्यूम फैक्‍ट्री, कोल्‍ड स्‍टोरेज और पेट्रोल पंप भी है। मुंबई में पीयूष का हेड ऑफिस और बंगला भी है। पीयूष जैन इत्र का सारा बिजनेस मुंबई से करते हैं, यहीं से इनका इत्र विदेशों में भी भेजा जाता है।