Saturday , January 28 2023

Ducks in Debut: सचिन सहित ये 5 बैट्समैन पहले ही वनडे में हुए 0 पर हुए थे आउट, फिर इंटरनेशनल क्रिकेट में लगा दिया रनों का अंबार

Hariom Dwivedi
स्पोर्ट्स डेस्क. Ducks in Debut-
डेब्यू मैच में शतक/अर्धशतक लगाना सफलता का पैमाना नहीं है। अगर ऐसा होता तो फिर पहली पारी में शून्य पर आउट होने वाले सचिन तेंदुलकर जैसे धाकड़ बल्लेबाज दुनिया के महान बल्लेबाज नहीं होते। जबकि कई ऐसे बल्लेबाज भी हुए हैं, जिन्होंने पहले ही मैच में शतक जमाया, लेकिन बाद में वह टीम में जगह तक नहीं बना पाये। आइये, आज उन भारतीय खिलाड़ियों के बारे में जानते हैं जो पहले ही वनडे मैच में शून्य पर आउट हुए, लेकिन बाद में इंडियन टीम की ‘जान’ बन गये। इनमें सचिन तेंदुलकर, महेंद्र सिंह धोनी, वीवीएस लक्ष्मण, सुरेश रैना और शिखर धवन जैसे खिलाड़ियों के नाम हैं। भले ही ये सभी डेब्यू मैच में खाता नहीं खोल पाये, लेकिन बाद में इन्होंने दुनिया भर की पिचों पर रनों का अंबार लगा दिया।

सचिन तेंदुलकर
इंटरनेशल क्रिकेट में सबसे ज्यादा शतक व रनों का विश्व रिकॉर्ड बनाने वाले सचिन तेंदुलकर भी अपने पहले ही वनडे मैच में शून्य पर आउट हो गये थे। साल 1989 में उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ पदार्पण किया था। इस मैच में सचिन पांचवें नंबर पर बैटिंग करने उतरे थे और वकार यूनिस की दूसरी ही गेंद पर आउट हो गये थे। इस मैच में भारत को हार मिली थी। उस समय सचिन की उम्र महज 16 साल 238 दिन थी। खास बात यह है कि सचिन ने फर्स्ट और लास्ट मैच पाकिस्तान के खिलाफ ही खेला था। 24 साल के इंटरनेशनल क्रिकेट में सचिन के नाम 101 शतक और 34,357 रन हैं।

यह भी पढ़ें: 34 बार शून्य पर आउट हुए हैं सचिन तेंदुलकर, ये हैं सबसे ज्यादा ducks वाले Top 5 बैट्समैन

महेंद्र सिंह धोनी
भारत के सफलतम कप्तानों की लिस्ट में शामिल महेंद्र सिंह धोनी अपने डेब्यू वनडे मैच में शून्य पर आउट हो गये थे। 2004 में बांग्लादेश के खिलाफ पदार्पण मुकाबले में वह सातवें नंबर पर बल्लेबाजी करने आये थे। तेजी से रन चुराने के प्रयास में वह बिना खाता खोले रन आउट हो गये थे। हालांकि, भारत यह मुकाबला जीत गया था। इंटरनेशन क्रिकेट में धोनी के नाम 17,266 रन हैं। इस दौरान उन्होंने 16 बार शतक भी जड़ा।

वीवीएस लक्ष्मण
इंटरनेशनल क्रिकेट में वीवीएस लक्ष्मण को यूं ही नहीं वेरी-वेरी स्पेशल कहा जाता था। इंटरनेशनल क्रिकेट में उन्होंने 10 हजार से ज्यादा रन बनाये हैं। अंतराष्ट्रीय क्रिकेट में उनके नाम 23 शतक और 02 दोहरे शतक हैं। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ उनकी 281 रनों की पारी अभी भी खेल प्रेमियों के जेहन में ताजा है। लेकिन, वह भी डेब्यू वनडे में बिना खाता खोले ही पवेलियन लौट गये थे। 1998 में जिम्बावे के खिलाफ उन्हें अपना पहला मैच खेला था। सचिन के आउट होने के बाद वह तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करने आये थे, लेकिन माबांग्वा ने उन्हें शून्य पर आउट कर दिया था। इस मैच में लक्ष्मण ने कुल तीन गेंदें खेली थी।

यह भी पढ़ें: 28 बार नर्वस नाइंटी के शिकार हुए सचिन तेंदुलकर, ये हैं Top 5 बैटर जो सबसे ज्यादा बार 90-99 के बीच लौटे पवेलियन

सुरेश रैना
लेफ्ट हैंडेड बैट्समैन सुरेश रैना ने वर्ष 2005 में श्रीलंका के खिलाफ वनडे डेब्यू किया था। पदार्पण मुकाबले में छठवें नंबर पर बैटिंग करने उतरे सुरेश रैना पहली ही गेंद पर मुथैया मुरलीधरन का शिकार हो गये थे। लेकिन, इसके बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा और क्रिकेट के हर फॉर्मेट में खूब रन बनाये। इंटनेशनल क्रिकेट में उनके नाम 7988 रन और 7 शतक हैं। इतना ही नहीं उन्होंने गेंदबाजी में भी कमाल करते हुए हर फॉर्मेट में विकेट लिये। इंटरनेशनल स्तर पर उनके खाते में 62 विकेट भी दर्ज हैं।

शिखर धवन
साल 2010 में शिखर धवन ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे डेब्यू किया था। बतौर सलामी बल्लेबाज वह इस मैच में खेले थे। लेकिन, क्लाइंट मैके उन्हें खाता नहीं खोलने दिया और दूसरी ही गेंद पर धवन को क्लीन बोल्ड कर दिया। लेकिन, इसके बाद से धवन ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और अभी तक सभी फॉर्मेट में खूब रन बना रहे हैं। इंटरनेशन क्रिकेट में उनके नाम 10 हजार से अधिक रन और 24 शतक हैं।

यह भी पढ़ें: जब मंच पर पत्नी का नाम लेना भूल गये सचिन तेंदुलकर, फिर जो हुआ आपने सोचा भी नहीं होगा