Tuesday , February 7 2023

Cricket News: लिस्ट एक भी छक्का न लगा पाने वाले दिग्गज खिलाड़ियों की, एक भारतीय भी शामिल

Cricket News: क्रिकेट का खेल मुख्य तौर पर एक गेंदबाज और एक बल्लेबाज के बीच खेला जाता है, लेकिन इस खेल में हमेशा बल्लेबाजों दबदबा ज्यादा रहता है। विश्व क्रिकेट के इतिहास में आपने कई आक्रामक से आक्रामक बल्लेबाज देखे हैं, जिन्होंने अपनी विस्फोटक बल्लेबाजी की बदौलत पूरी दुनिया में अपनी अलग छाप छोड़ी है। सच कहें तो कई दिग्गज बल्लेबाजों ने तो बड़े से बड़े गेंदबाजों की कुटाई करते हुए विपक्षी टीमों के दिल में खौफ पैदा कर रखा था। सचिन तेंदुलकर हों, पाकिस्तान के ऑलराउंडर शाहिद अफरीदी या फिर वेस्टइंडीज के विस्फोटक सलामी बल्लेबाज क्रिस गेल हों, इन जैसे कई खिलाड़ियों के सामने दुनिया का कोई भी गेंदबाज गेंद फेंकने में घबराता था। जो बल्लेबाज लंबे-लंबे छ्क्के और चौके लगाने के लिए जाने जाते हैं उनसे गेंदबाज हमेशा ही बचने को देखता है। ऐसे में अगर बात करें तो हर बल्लेबाज अपने करियर में एक ना एक छक्का तो लगाता ही हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि दुनिया में ऐसे 5 दिग्गज बल्लेबाज भी हैं जिन्होंने कभी अपने लंबे वनडे करियर में एक भी छक्का नहीं मारा। आप जानकर हैरान होंगे कि इस लिस्ट में एक भारतीय खिलाड़ी भी शामिल है।

जिम्बाब्वे के पूर्व बल्लेबाज डियोन इब्राहिम (Dion Ibrahim)
सबसे पहले बात जिम्बाबवे के दाएं हाथ के पूर्व बल्लेबाज डियोन इब्राहिम (Dion Ibrahim Zimbabwe) की करेंगे, इन्होंने अपने एकदिवसीय अंतर्राष्ट्रीय करियर में कभी छक्का नहीं लगाया। डियोन इब्राहिम ने 82 वनडे मुकाबलों में 20.61 के औसत से 1443 रन बटोरे। इस दौरान उन्होंने 1 शतक और 4 अर्धशतक जड़े। इब्राहिम का उच्चतम व्यक्तिगत स्कोर 121 रन रहा। उन्होंने 104 चौके जड़े। वे 6 बार नॉट आउट भी रहे। इसके अलावा उनका स्ट्राइक रेट 56.81 का रहा। आपको बता दें कि इब्राहिम को जिम्बाबवे के कलात्मक बल्लेबाजों की लिस्ट में गिना जाता था। जिम्बाब्वे के इस बल्लेबाज का खेलने का तरीका बेहद शानदार था। खासकर कवर ड्राइव उनके बल्ले से बेहद खूबसूरत लगती थी। हालांकि इतना अच्छा रिकॉर्ड होन के बाद भी इनको इस बात का अफसोस जरूर होगा, कि इन्होंने अपने करियर में एक भी छक्का नहीं लगाया।

इंग्लैंड के ज्योफरी बॉयकॉट (Geoffrey Boycott)
अब बात इंग्लैंड के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज ज्योफ्री बॉयकॉट (Geoffrey Boycott England) की। इन्होंने भी अपने एकदिवसीय क्रिकेट करियर में एक भी छक्का नहीं जड़ा। उन्होंने 36 वनडे में 36.06 के औसत से 1082 रन बनाए। इस दौरान उन्होंने 1 शतक और 9 अर्धशतक जड़े। इस इंग्लिश खिलाड़ी का उच्चतम व्यक्तिगत स्कोर 105 रन रहा। उन्होंने अपने करियर में 84 चौके भी लगाए। ज्योफ्री बॉयकॉट ने 53.56 के स्ट्राइक रेट से रन बनाए। वे 4 बार नॉट आउट रहे। बॉयकॉट को इंग्लैंड के महान खिलाड़ियों में शुमार किया जाता है। उनका बल्लेबाजी करने का तरीका बेहद शानदार था। मगर वनडे क्रिकेट में एक भी मौका ऐसा नहीं आया, जब उनके बल्ले से एक भी छक्का देखने को मिल पाया हो। टेस्ट क्रिकेट की बात करें तो उसमें भी ज्योफ्री बॉयकॉट की बल्लेबाजी का कोई जवाब ही नहीं था।

श्रीलंका के थिलन समरवीरा (Thilan Samaraweera)
श्रीलंकाई टीम के दाएं हाथ के बल्लेबाज थिलन समरवीरा (Thilan Samaraweera Srilanka) ने भी अपने एकदिवसीय क्रिकेट करियर में कभी छक्का नहीं जड़ा। समरवीरा ने 27.80 के औसत से 862 रन बनाए। इस दौरान उन्होंने 2 शतक जमाए, जबकि उनके खाते में एक भी अर्धशतक नहीं आ सका। उनका उच्चतम व्यक्तिगत स्कोर 105 रन नाबाद रहा। समरवीरा ने 76 चौके लगाए। वे अपने 12 सालों के करियर और 53 वनडे मैचों 11 बार नॉट आउट रहे। उन्होंने 69.29 के स्ट्राइक रेट से बल्लेबाजी की। समरवीरा श्रीलंकाई टीम के बेहतरीन बल्लेबाजों में से एक रहे। उनमें बड़े-बड़े शॉट्स खेलनी की काबिलियत थी, लेकिन वे एकदिवसीय क्रिकेट में गेंद को सीमा रेखा के पार छक्के के लिए भेजने में नाकामयाब रहे। श्रीलंका के दिग्गज बल्लेबाज थिलन समरवीरा अपने समय के सबसे बेहतरीन टेस्ट बल्लेबाजों में भी शुमार रहे। उन्होंने श्रीलंकाई टीम के लिए 5000 से ज्यादा टेस्ट रन बनाए।

ऑस्ट्रेलिया के कैलम फर्ग्युसन (Callum Ferguson)
ऑस्ट्रेलिया के लिए 2009 में डेब्यू करने वाले स्टार बल्लेबाज कैलम फर्ग्युसन (Callum Ferguson Australia) ने भी अपने वनडे क्रिकेट करियर में कभी छक्का नहीं लगाया। उन्होंने 30 एकदिवसीय मुकाबलों में 41.43 के औसत से 663 रन बनाए। इस दौरान उन्होंने 5 अर्धशतक जमाए। उनका उच्चतम स्कोर 71 रन नाबाद रहा। वे 9 बार नॉट आउट भी रहे। दाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने 82.32 के स्ट्राइक रेट से बल्लेबाजी की। फर्ग्युसन ने 64 चौके भी बटोरे। ऑस्ट्रेलियाई टीम के इस बल्लेबाज ने कई बार अपनी टीम के लिए बड़ी पारियां खेलीं, लेकिन वे वनडे में गेंद को एक भी बार छक्के के लिए नहीं भेज पाए। पिछले पांच सालों से ज्यादा समय से फर्ग्युसन ऑस्ट्रेलियाई टीम में जगह नहीं बना सके हैं। हालांकि ये बल्लेबाज दुनियाभर की क्रिकेट लीग्स में आज भी अपना जलवा दिखाता है।

भारत के मनोज प्रभाकर (Manoj Prabhakar)
भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व दिग्गज ऑलराउंडर मनोज प्रभाकर (Manoj Prabhakar India) अपने एकदिवसीय क्रिकेट करियर में एक भी छक्का नहीं जड़ पाए। उन्होंने 130 वनडे में 24.12 के औसत से 1858 रन बनाए। इस दौरान उन्होंने 2 शतक और 11 अर्धशतक भी जमाए। मनोज प्रभाकर ने 60.26 के स्ट्राइक रेट से बल्लेबाजी की। वे 21 बार नाबाद भी रहे। उनका उच्चतम स्कोर 106 रन रहा। इसके अलावा मनोज प्रभाकर ने वनडे में 157 विकेट भी चटकाए। मनोज एक आक्रामक बल्लेबाज थे। हालांकि वे वनडे क्रिकेट में छक्कों का खाता नहीं खोल पाए। उन्हें आज भी टीम इंडिया के दिग्गज खिलाड़ियों में शामिल किया जाता है। एक शानदार बल्लेबाज होने के बाद भी ये खिलाड़ी पूरे वनडे करियर में एक भी छक्का नहीं लगा पाया।

विश्व रिकॉर्ड शाहिद आफरीदी के नाम दर्ज
आप सभी जानते हैं कि एकदिवसीय अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे ज्यादा छक्के जड़ने का विश्व रिकॉर्ड शाहिद अफरीदी (Pakistan Shahid Afridi Sixer) के नाम दर्ज है। उनके बाद इस फेहरिस्त में दूसरे नंबर पर क्रिस गेल (Westindies Chris Gayle Sixer) का नाम आता है, लेकिन उसके बाद भी यह ऐसे पांच दिग्गज खिलाड़ी हैं, जो अपने एकदिवसीय क्रिकेट करियर में कभी एक भी छक्का नहीं जड़ पाए। ऐसे में लाजमी है कि अपने करियर में एक भी छक्का न लगा पाने का यह इतिहास इन खिलाड़ियों को कहीं न कहीं कचोटता जरूर होगा।