Monday , January 30 2023

भारत के इस इलाके से टकरा सकता है साल का पहला तूफान, मौसम विभाग ने जारी किया येलो अलर्ट

दिल्ली. भारत के तटीय इलाकों में हमेशा चक्रवाती तूफान का खतरा मंडराता करता है। ऐसे में मौसम विभाग (IMD) के ताजा अनुमान के मुताबिक देश के पूर्वी राज्य ओडिशा (Cyclonic Storm Odisha) के तूफान से प्रभावित होने की संभावना है। वहीं इस तूफान से निपटने के लिए प्रदेश के 18 जिलों में येलो अलर्ट (Yellow Alert) जारी करते हुए खास तैयारियां की जा चुकी हैं। मौसम विभाग के मुताबिक अगले हफ्ते की शुरुआत में ये तूफान ओडिशा के समुद्री तटों से टकरा सकता है। IMD के मुताबिक चक्रवाती तूफान के दौरान हवा की गति 80-90 किलोमीटर प्रति घंटा रहेगी। इसलिए नौ मई से समुद्र में ऊंची लहरें उठने के कारण मछुआरों को समुद्री क्षेत्र में जाने से बचने के लिए कहा गया है।

भारी बारिश की चेतावनी
मौसम विभाग की तरफ से दक्षिण अंडमान सागर पर बने निम्न दबाव (Low presuure) के क्षेत्र के चक्रवाती तूफान (Cyclonic Storm) में तब्दील होने के बाद इसकी तीव्रता बढ़ने की संभावना जताई गई है। जिसके मुताबिक दक्षिण अंडमान सागर और उसके पास दक्षिण-पूर्व बंगाल की खाड़ी (Bay of Bengal) में मौसम प्रणाली के उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने और शनिवार तक दबाव के क्षेत्र में बदलने की संभावना है। इसको लेकर किसी भी तरह की स्थिति से निपटने के लिए NDRF की 17 और ओडिशा आपदा त्वरित कार्रवाई बल (ODRAF) की 20 टीमों को तैनात कर दिया गया है। मौसम विभाग के मुताबिक इस वजह से अगले हफ्ते मंगलवार से शुक्रवार के बीच पश्चिम बंगाल (West Bengal) के कुछ जिलों में गरज-चमक के साथ छीटें पड़ने और भारी बारिश (Heavy Rain) होने की चेतावनी जारी की गई है।

तीन गर्मियों से लगातार आ रहा तूफान
आपको बता दें कि इस समुद्री क्षेत्र में पिछली तीन गर्मियों से लगातार चक्रवाती तूफान आ रहे हैं। ऐसे में समय रहते चेतावनी जारी होने से इस बार कम नुकसान होने की उम्मीद लगाई जा रही है। इससे पहले ओडिशा में 2021 में ‘यास’, 2020 में ‘अम्फान’ और 2019 में ‘फानी’ तूफान आया था। वहीं इसे लेकर IMD के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने बताया कि निम्न दाब के क्षेत्र के उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने और दक्षिण-पूर्व बंगाल की खाड़ी में दबाव के क्षेत्र में बदलने व पूर्वी-मध्य बंगाल की खाड़ी में चक्रवाती तूफान में तब्दील होने की आशंका है। जो 10 मई तक संबंधित क्षेत्र में पहुंच सकता है। ये चक्रवर्ती तूफान किस इलाके से टकराएगा इसको लेकर फिलहाल कोई जानकारी नहीं है।