Tuesday , February 7 2023

Covid-19- यूपी में अब वैक्सीनेटेड रसोईया ही बनाएंगी मिड डे मील, आभूषण पहनने पर भी रोक, कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए शासन से निर्देश जारी

लखनऊ. Covid-19 Update. कोविड की बढ़ती रफ़्तार को देखते हुए स्कूलों में रसोईयों को लेकर नया निर्देश जारी किया गया है| जिसकी वजह से रसोईयों को किसी भी तरह के आभूषण पहनने से मना कर दिया गया है| 8600 रसोईयां जिले के 2611 परिषदीय स्कूलों में बच्चों के लिए दोपहर का खाना (MDM) बनाने ले लिए कार्यरत हैं|

नए निर्देश में चुनौती?
गहना पहनना महिलाओं के लिए शौक ही नहीं बल्कि भारतीय संस्कृति का एक हिस्सा भी माना जाता है| ऐसे में एमडीएम निदेशालय (MDM Directorate) की ओर से आया यह फैसला बिना किसी स्पष्टीकरण (reason) के चौकाने वाला है| और साथ में विभाग के लिए यह नया कानून लागू कराना एक चुनौती बना हुआ है|

रसोईयों की नाराजगी का कारण?
एमडीएम निदेशालय की ओर से जारी इस नए नियम पर कुछ रसोईयों ने आपत्ति जताई है| उनका कहना है कि यह निर्देश सिर्फ उनके लिए ही क्यों, शिक्षकों के लिए क्यों नहीं?

कोविड 19 update (Covid-19 Update)
केजीएमयू (KGMU) के चिकित्सा अधीक्षक डॉ हिमांशु के मुताबिक कोरोना के बढ़ते मामलों को हल्के में नहीं लेना चाहिए| वायरस के स्वरुप में 6 महीने के अंतर में बदलाव देखा गया है| ऐसे में 6 माह बाद टीकाकरण(vaccination) और हेर्ड इम्युनिटी (herd immunity) से बनी एंटीबॉडी (antibody)भी कम होने लगती है| इसलिए बढ़ते संक्रमित दर को देखते हुए चौथी लहर (Covid fourth wave) की आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता|

बूस्टर डोज़ की गति हुई धीमी (Covid-19 Booster dose)
राजधानी लखनऊ (lucknow) में 60 वर्ष से ऊपर के आयुवर्ग में 20 प्रतिशत, 45 से 59 वर्ष के आयुवर्ग के करीब दो फीसदी तथा 18 से 44 वर्ष के आयुवर्ग में एक फीसदी के करीब ही बूस्टर डोज़ लगाई गयी है| धीमी गति के पीछे ‘निर्धारित शुल्क’ हो सकता है क्योकि सरकारी केंद्रों पर केवल हैल्थकारे वर्कर (healthcare worker), फ्रंटलाइन वर्कर (frontline worker) और बुजुर्गों को ही बूस्टर डोस निशुल्क उपलब्ध है|

वैक्सीनेशन कैसे लगवाएं? (how to get vaccinated)
आधिकारिक वेबसाइट covin.gov.in, आरोग्य सेतु एप (aarogya setu app) या फिर उमंग एप (umang app) पर जाकरऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कर अपने समय और दिन के मुताबिक निर्धारित केंद्र पर जाकर लगवा सकते हैं|