Monday , January 30 2023

प्रियंका गांधी के तीखे तीर- मोदी बताएं 7 साल में क्या किया, योगी होते कौन हैं महिलाओं की ऊर्जा को नियंत्रित करने वाले?

लखनऊ. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने मंगलवार को फेसबुक के माध्यम से जनता वर्चुअली संवाद किया। इस दौरान उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर जमकर हमले किए। कि योगी आदित्यनाथ महिलाओं की ऊर्जा को नियंत्रित करने की बात करते हैं। यह भाजपा, योगी आदित्यनाथ और उनकी पार्टी के नेताओं की महिलाओं के प्रति विचारधारा को स्पष्ट करता है। मैं इससे सहमत नहीं हूं, महिलाओं की ऊर्जा देश को बदल सकती है, महिलाओं की ऊर्जा, उनकी करुणा, प्रेम, विवेक, दृढ़ता उनके विशेष गुण हैं। योगी आदित्यनाथ होते कौन हैं, महिलाओं की ऊर्जा को नियंत्रित करने वाले?

कांग्रेस प्रत्याशियों को वोट देने की अपील करते हुए उन्होंने कहा कि मैं अपनी बहनों को कहना चाहती हूं कि जहां जहां महिला प्रत्याशी हैं, वहां वहां आप उन्हें सपोर्ट कीजिए। उनका संघर्ष आपका भी संघर्ष है। जो आज यहां तक पहुंची हैं, उन्होंने बहुत संघर्ष किया है। कानून व्यवस्था पर प्रहार करते हुए उन्होंने कहा हमारी कई प्रत्याशियों पर पुलिस ने और सरकार ने अत्याचार किया। हमने फैसला किया है कि हम उनके हाथ से सत्ता छीनेंगे और उनको देंगे जिन पर आपने अत्याचार किया है।

क्या लिखा है योगी ने?
भारतीय शक्ति के संदर्भ में’ में अपने लेख ‘मातृशक्ति: योगी का मानना है कि महिलाओं को जन्म से मृत्यु तक सुरक्षा की जरूरत होती है और उनकी ‘ऊर्जा/शक्ति’ को सही दिशा देना चाहिए या नियंत्रित करना चाहिए ताकि वह बेकार और विध्वंसक न हो जाए। इनमें से ज्यादातर लेख 2014 के हैं।

पीएम मोदी बताएं 7 सालों में क्या किया? प्रियंका गांधी
प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधते हुए प्रियंका गांधी ने कहा, हम समझते हैं कि आपके लिए काम करना हमारी ड्यूटी, हमारा धर्म है। हम काम करने के बदले एहसान नहीं जताते। कांग्रेस के समय वैक्सीन निर्माण शुरू हुआ था, हमारा नजरिया था कि यह देश की जरूरत है। हमने एहसान नहीं जताया। चुनाव के पहले शिलान्यास हो रहे हैं, लेकिन वे ये नहीं बताते कि पिछले पांच सात साल में क्या हुआ। वे ये पूछते हैं कि 70 साल में क्या हुआ, लेकिन वे ये नहीं बताते कि खुद क्या किया। जबकि आज जिस बुनियाद पर हम खड़े हैं वह पिछले 70 में बनी है। उन्होंने कहा कि हमारी सबसे बड़ी चुनौती है कि राजनीति का मकसद सकारात्मक बने। बंटवारे की राजनीति खत्म करके विकास की राजनीति महत्वपूर्ण है। हमारे सामने आर्थिक चुनौती भी है कि हमारे युवाओं को रोजगार कैसे मिले। स्वास्थ्य और शिक्षा बेहतर हो।