Monday , January 30 2023

इस सीट पर जीत के लिये कांग्रेस ने खेल दिया बड़ा दांव, ऐसी महिला नेता को मैदान में उतारा, बिगड़ गया सबका गणित

लखनऊ. UP Election 2022: यूपी विधानसभा चुनाव 2022 के लिये बाराबंकी जनपद की सभी विधानसभा सीटों पर कांग्रेस (Congress) ने अपने पत्ते खोल दिए हैं। कांग्रेस ने जिले की सभी छह सीटों पर अपने उम्मीदवारों के नामों की घोषणा कर दी है। कांग्रेस ने अपने वादे के मुताबिक बाराबंकी में भी आधी आबादी पर भरोसा जताते हुए छह उम्मीदवारों में से तीन महिलाओं को चुनावी मैदान में उतारा है। इनमें से जैदपुर विधानसभा सीट (Zaidpur Vidhan Sabha Seat) से कांग्रेस उम्मीदवार तनुज पुनिया (Tanuj Punia) को छोड़ दिया जाए तो पांच ऐसे उम्मीदवार हैं जो पहली बार चुनाव मैदान में हैं। पार्टी ने इसके साथ ही दलित, ब्राह्मण, कुर्मी, यादव और मुसलमान को मैदान में उतारकर सभी जातियों को साधने का प्रयास किया है। कांग्रेस ने बाराबंकी सदर सीट (Sadar Vidhan Sabha Seat) से पार्टी की जिला उपाध्यक्ष और समाजसेवी गौरी यादव (Gauri Yadav) को चुनाव मैदान में उतारा है। देखिये गौरी यादव से खास बातचीत…

बेनी की बहू भी चुनावी मैदान में
बाराबंकी सदर सीट के अलावा दरियाबाद सीट से बेनी प्रसाद वर्मा (Beni Prasad Verma) की बहू और पूर्व ब्लॉक प्रमुख चित्रा वर्मा (Chitra Verma) पर कांग्रेस ने दांव लगाया है। इसके अलावा पार्टी ने हैदरगढ़ विधानसभा सीट (Haidergarh Vidhan Sabha Seat) से फिल्म अभिनेत्री निर्मला चौधरी (Nirmala Chaudhary) को चुनाव मैदान में उतारा है। जैदपुर से पूर्व सांसद पीएल पुनिया (PL Punia) के बेटे और कई बार चुनाव लड़ चुके तनुज पुनिया पर कांग्रेस ने फिर विश्वास जताया है। इसके अलावा रामनगर सीट (Ramnagar Vidhan Sabha Seat) से कांग्रेस के प्रदेेश सचिव और पेशे से वकील ज्ञानेश शुक्ला (Gyanesh Shukla) और कुर्सी विधानसभा क्षेत्र (Kursi Vidhan Sabha Seat) से देवा से पूर्व प्रमुख रहे जमील अहमद (Zameel Ahmed) को अपना प्रत्याशी बनाकर कांग्रेस ने चुनाव मैदान में उतार दिया है। यानी कांग्रेस ने अपने वादे के मुताबिक, तीन महिलाओं को चुनाव मैदान में उतार आधी आबादी पर भरोसा जताया है।

प्रियंका गांधी ने पूरा किया वादा
आपको बता दें कि कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) पहले ही कह चुकी हैं कि इस बार के विधानसभा चुनाव में वह 40 प्रतिशत महिलाओं को टिकट देंगी। जिले में छह में तीन सीटों पर महिला उम्मीदवारों को मैदान में उतारकर कांग्रेस ने यह संदेश देने की कोशिश की है कि उसने जो कहा है उस पर अमल किया है। जनता अगर उस पर विश्वास जताती है तो चुनाव के दौरान जो वादे किए जा रहे हैं उन्हें भी पूरा किया जाएगा। इसके अलावा इस चुनाव में दलित, पिछड़ा, मुसलमान और सामान्य वर्ग को मौका देकर सभी वर्गों को साधने का पूरा प्रयास भी कांग्रेस ने किया है। हालांकि कांग्रेस अपने इस मकसद में कितना सफल होगी ये तो आने वाला वक्त ही बताएगा।