Tuesday , February 7 2023

CM Yogi on Population: बढ़ती आबादी पर बोले सीएम योगी, जनसंख्या असंतुलन ठीक नहीं, एक वर्ग की जनसंख्या बढ़ने से फैलेगी अराजकता

लखनऊ. CM Yogi Adityanath on Population- विश्व जनसंख्या दिवस (11 July) पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ में ‘जनसंख्या स्थिरता पखवाड़ा’ का शुभारंभ किया। इस दौरान बढ़ती आबादी पर चिंता जताते हुए सीएम योगी ने कहाकि हमें यह ध्यान रखना होगा कि जनसंख्या नियंत्रण का कार्यक्रम सफलतापूर्वक आगे बढ़े लेकिन, जनसांख्यिकी असंतुलन भी पैदा न होने पाए। एक ही वर्ग की आबादी बढ़ने से अराजकता होगी। मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि जनसंख्या स्थिरीकरण की बात करें तो जाति, मत-मजहब, क्षेत्र, भाषा से ऊपर उठकर समाज में समान रूप से जागरूकता के व्यापक कार्यक्रम के साथ जुड़ने की आवश्यकता है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जनसंख्या स्थिरीकरण के बेहतरीन प्रयास को जन सहभागिता व अंतर विभागीय समन्वय के माध्यम से आगे बढ़ाया जाए। जनसंख्या का असंतुलन नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा कि जिन देशों की जनसंख्या ज्यादा होती है वहां जनसांख्यकीय असंतुलन चिंता का विषय बनता है। क्योंकि एक समय के बाद वहां अव्यवस्था, अराजकता जन्म लेने लगती है। इसलिए जनसंख्या स्थिरीकरण के प्रयासों से सभी मत मजहब, वर्ग, सम्प्रदाय पर एक समान रूप से जोड़ा जाना चाहिए।

कहीं एक ही वर्ग की आबादी नियंत्रित न हो जाये: सीएम योगी
सीएम योगी ने कहाकि जब बात परिवार नियोजन की हो, जनसंख्या स्थिरीकरण की हो तो हमें यह ध्यान रखना होगा कि जनसंख्या नियंत्रण के प्रयास सफलतापूर्वक जरूर हों, लेकिन कहीं भी जनसांख्यकीय असंतुलन की स्थिति न पैदा होने पाए। ऐसा न हो कि किसी एक वर्ग की आबादी बढ़ने की स्पीड ज्यादा हो और जो मूल निवासी हों, जनसंख्या स्थिरीकरण की कोशिशों से, इंफोर्समेंट से और जागरुकता प्रयासों से उनकी आबादी को नियंत्रित कर दिया जाए।

जल्द ही 25 करोड़ का आंकड़ा पार कर जाएगी यूपी की आबादी
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि 100 करोड़ की आबादी तक पहुंचने लाखों वर्ष लग गए, लेकिन 100 से 500 करोड़ होने में महज 183-185 वर्ष ही लगे। इस वर्ष के अंत तक विश्व की आबादी 800 करोड़ होने की संभावना है। आज का भारत 135-140 करोड़ जनसंख्या का देश है, जिसमें उत्तर प्रदेश सबसे अधिक आबादी का राज्य है। यहां अभी 24 करोड़ की आबादी है, जो कि कुछ ही समय में 25 करोड़ की संख्या को पार कर जाएगी। यह स्पीड एक चुनौती है। हमें इसके नियंत्रण/स्थिरीकरण के लिए कोशिश करनी होगी।