Monday , January 30 2023

Laal Singh Chaddha पर हंगामा क्यों है बरपा? बहिष्कार क्यों?

दिल्ली. Boycott Laal Singh Chadha trending why? आमिर खान-करीना कपूर स्टारर फिल्म ‘लाल सिंह चड्डा’ 11 अगस्त को सिनेमाघरों में रिलीज होगी। चार साल के बााद आमिर खान बड़े पर्दे पर नजर आएंगे। लेकिन रिलीज से पहले ही सोशल मीडियो पर फिल्म को ट्रोल और बॉयकॉट का सामना करना पड़ रहा है। इसके लिए आमिर खान और करीना कपूर के पुराने इंटरव्यू और फिल्म के कुछ दृश्यों का सहारा लिया जा रहा है। लेकिन इतना बवाल आखिर है क्यों? बात बहिष्कार तक क्यों आ गई है?

देखिए ये तो सच है कि अगर कॉंटेंट स्ट्रांग है तो फिल्म को इग्नोर कर पाना मुश्किल है। खुद आमिर खान की फिल्म ही देख लीजिए। ‘पीके’ के कई दृश्य विवादित थे, लेकिन वो फिल्म उस वक्त की सबसे बड़ी ब्लॉकबस्टर (कमाए 339.50 करोड़ रुपए) साबित हुई। फिल्म ‘दंगल’ (कमाए 387.39 करोड़ रुपए) के प्रोमोशन के दौरान आमिर खान ने अपनी पूर्व पत्नी किरन राव के डिस्कशन को पब्लिक किया था, जिसमें उन्हें ‘इस देश में डर लगना’ जैसी बात थी। लेकिन फिर वह फिल्म आज तक की सबसे बड़ी बॉलीवुड फिल्म साबित हुई है। इन सभी कॉन्ट्रोवर्सी के बाद उनकी फिल्म ‘सीक्रेट सुपरस्टार’ आई थी, जो भी हिट रही थी। तो एक बात तो साफ है कि फिल्मे कॉन्टेंट से जीत गईं, भले ही सोशल मीडिया पर बॉयकॉट आमिर खान चलता रहा हो।

अब आते हैं लाल सिंह चड्डा पर। तो थोड़ा पहले चले, तो अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद सोशल मीडिया पर नेपोटिज्म को लेकर खूब चर्चा हुई और ए-लिस्टर्स अभिनेता और अभिनेत्रियों की फिल्मों को बॉयकॉट करने का एक ट्रेंड सा शुरु हुआ, जिसका खामियाजा कई अच्छी फिल्मों (फिल्म 83, जुग जुग जीयो, जयेशभाई जोरदार, रनवे 34) को भी भुगतना पड़ा। रणबीर कपूर की ‘शमशेरा’ भी बॉयकॉट के दौर से गुजरी। हालांकि फिल्म में संजय दत्त को तिलक धारी विलेन के रूप में दिखाना भी इसकी वजह रही, क्योंकि एक समुदाय की भावनाएं इससे आहत हुईं। लेकिन दूसरी ओर समीक्षकों ने भी फिल्म को सिरे से नकार दिया था, और जिन लोगों ने फिल्म देखी, उनकी ओर से निकल कर सामने आई word of mouth publicity कुछ अच्छी नहीं रही। जिस वजह से फिल्म बुरी तरह फ्लॉप रही। तो लाल सिंह चड्डा का सोशल मीडिया पर बॉयकॉट करना फिल्म की सफलता पर कोई असर करेगा, ये भी फिल्म के रिलीज होने के बाद पता चलेगा। 

वैसे बॉयकॉट के साथ गड़े मुर्दो को उखाड़ा जा रहा है। मसलन आमिर खान के उन फिल्मों के सीन्स को चिपकाया जा रहा है, जो हिट हो चुकी हैं। साथ ही आमिर खान के ही पुराने इंटर्वयू जिसमें किरन राव के उक्त बयान का जिक्र है उसे भी लाया जा रहा है। साथ ही उनके टर्की के राष्ट्रपति की पत्नी के साथ की तीन साल पुरानी तस्वीरों को भी अटैच किया जा रहा है। क्योंकि टर्की भारत का दुश्मन है और पाकिस्तान का हमदर्द। ऐसे में आमिर खान की उनकी साथ की तस्वीर अपने आप में कॉन्ट्रोवर्सी पैदा करती है। आमिर खान के साथ उनकी को-स्टार करीना कपूर भी लपेटे में आई गई हैं। उनको उनके कई साल पहले दिए गए ‘मत देखो हमारी फिल्मों’ वाले बयान को खूब दिखाया जा रहा है। और सोशल मीडियो पर उनकी इच्छा पूरी करने की बात कही जा रही है। वैसे लाल सिंह चड्डा हॉलीवुड की ऑस्कर विजेता फिल्म फॉरेस्ट गंप की रीमेक-कम-अडॉप्टेशन है। इसलिए भी कुछ लोग दूरी बनाने की बात कह रहे हैं।

The Nh Zero की राय में आमिर खान को उनकी पॉलिटिरल प्रीफ्रेंस के लिए इग्नोर किया जा सकता है, लेकिन फिल्म में कई लोगों की मेहनत भी होती है। तो अगर फिल्म अच्छी न हो तो बेशक न देखिए। लेकिन अच्छी हो तो समय आपका, रुपया आपका, अगर मन करें तो दोनों को इसमें इन्वेस्ट कर सकते हैं।

-अभिषेक गुप्ता