Tuesday , February 7 2023

क्लर्क के घर से मिले लाखों रुपए, छापेमारी के दौरान पी लिया जहर

भोपाल. मध्य प्रदेश में भोपाल और जबलपुर में ईओडब्ल्यू (आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ) द्वारा की गई छापेमारी में एक क्लर्क के घर से करीब 85 लाख रुपए व शासकीय अभियंता के पास से आय से 200 गुना अधिक संपत्ति प्राप्त हुई है। बुधवार को भोपाल में हुई छापेमारी में दौरान क्लर्क ने नाटकीय तरीके से जहर (फिनायल) पी लिया। जिसके बाद उनसे आनन फानन में नजदीकी अस्पताल ले जाया गया। जहां बाद में उसे डिस्चार्ज भी कर दिया गया।

महंगे हैं शौक-

भोपाल में ईओडब्ल्यू की टीम ने चिकित्सा शिक्षा विभाग में पदस्थ क्लर्क हीरो केसवानी के घर छापेमारी की। जिसमें करीब 85 लाख रुपए नगद बरामद हुए। बताया जाता है कि वह काली कमाई का सौदागर है। उसे सोना और महंगे सूट पहनने का शौक है। बड़ी नामी पार्टियों में वह अधिकारियों की तरह पहुंचता है। दफ्तर में बदल-बदल कर कारें लाता। फिलहाल उसे चिकित्सा शिक्षा विभाग से सस्पेंड कर दिया गया है और उसपर विभागीय जांच चल रही है। वह बीते 20 साल से चिकित्सा शिक्षा विभाग में कार्यरत रहा। उसका परिवरा जांच में सहयोग नहीं कर रहा है।

चार हजार रुपए की नौकरी से की थी शुरुआत-

बताया जा रहा है कि हीरो केसवानी ने 4 हजार रुपए माह पर नौकरी करना शुरू की थी। अब उसकी सैलरी 50 हजार रुपए है। ईओडब्ल्यू की कार्रवाई में अब तक दो बैंक खाते मिले हैं। बैरागढ़ स्थित उसके मकान की ही कीमत करीब डेढ़ करोड़ रुपए है। उसके घर पर एक कार व एक स्कूटी बरामद हुई है। घरवालों के नाम पर बैंक खातों में लाखों रुपए जमा हैं। केसवानी का एक बेटा प्राइवेट नौकरी करता है। दूसरे बेटे की हाल ही में क्लर्क की सरकारी नौकरी लगी है। पत्नी हाउजवाइफ है। 

टीम कर रही पूछताछ-

ईओडब्लू के टीम आय के केसवानी के स्रोतों को खंगालने में लगी है। उसकी पत्नी व बच्चों से टीम पूछताछ की गई है, लेकिन उन्होंने भी कोई ठोस इनकम का साधन नहीं बताया। बैरागढ़ में आरोपी क्लर्क का आलीशान बंगला देख खुद ईओडब्ल्यू अधिकारी सकते में आ गए। इस बंगले के प्रत्येक फ्लोर पर पेनलिंग और वुडवर्क कराया गए हैं। साथ ही उसके घर की छत पर एक आलीशान सा पेंटहाउस भी बना हुआ है। उसने बैरागढ़ के आसपास के इलाकों में हालिया विकसित कॉलोनियों में भी कई फ्लैट और प्लॉट खरीदे हैं। जिसके दस्तावेज भी उसके घर से बरामत हुए हैं और जांच की जा रही है।