Tuesday , February 7 2023

अभ्यर्थी भर्ती मांग को लेकर अखिलेश यादव ने सरकार को घेरा, दिया बड़ा बयान

लखनऊ. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भाजपा पर जमकर हमले किए। उन्होंने कानून व्यवस्था से लेकर बेरोजगारी व किसान के मुद्दे पर डंके की चोट पर बयान दिए। उन्होंने कहा कि नेशनल क्राइम रिकार्ड ब्यूरों के आंकड़े बताते हैं कि सबसे ज्यादा घटनाएं उत्तर प्रदेश में हुई हैं। जिस तरीके से भाजपा सरकार चल रही है उससे हर वर्ग परेशान है। भाजपा विधायक थाने चला रहे हैं। अखिलेश यादव ने कहा कि मंडी व्यवस्था को भाजपा सरकार ने बर्बाद कर दिया है। सरकार किसानों की मदद के बजाय उन्हें धोखा दे रही है। नीति आयोग के आंकड़े यूपी की सच्चाई बता रहे हैं। स्कूलों में अभी तक किताबे नहीं मिली? ड्रेस नहीं दे पाए, जूते मोजे नहीं दे पाए।

ये भी पढ़ें- Indian Army Jobs: …तो अब 4 साल की नौकरी के बाद ही रिटायर हो जाएंगे सैनिक?

अखिलेश यादव बोले भाजपा ने आरक्षण व्यवस्थाओं को बदल दिया जिसकी वजह से दलित और पिछड़े नौजवानों की नौकरी छूट गई, ये सरकार काम रोकने वाली सरकार है। अभ्यर्थी भर्ती कैंसिल करने की मांग कर रहे हैं। सरकार भर्ती क्यों नहीं रद्द करती? सरकार को पता है कि तकनीकी का साथ लेकर धांधली हुई है। जिस संस्था में परीक्षा हो रही है उससे मिली भगत थी। दारोगा भर्ती पेपर लीक, सौ से ज्यादा लोग पकड़े गए। यूपीएसएससी लोअर सबआरडीनेट पेपर लीक, ट्यूवेलआपरेटर पेपर लीक, यूपी आरक्षी नागरिक पुलिस के पर्चे गलत बंटे, ग्राम्य विकास की भर्ती में धांधली हुई। समाजवादी सरकार में पूरी पारदर्शिता से नौकरियों में भर्ती हुई थी।

ये भी पढ़ें- Ek Parivar Ek Naukri Yojana: अब हर परिवार से एक व्यक्ति को मिलेगा जॉब, यूपी में सबका सर्वे कराने जा रही है योगी सरकार

सपा अध्यक्ष ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के लोग पुलिस की पिटाई कर रहे हैं। मुख्यमंत्री बजट सत्र में कानून व्यवस्था और बेटी सुरक्षा पर झूठ के पुलिंदे सुना रहे है। वहीं जंगलराज के तले बे-खौफ दरिन्दे बेटियों से दुष्कर्म कर रहे हैं। उन्नाव में दुष्कर्म के बाद हत्या विचलित करने वाली घटना है। अपनी सरकार में खाकी के दाग कब तक छिपाएंगे मुख्यमंत्री। उन्होंने कहा कि जनता पर पुलिसिया अत्याचार की घटनाएं दिन-ब-दिन बढती जा रही हैं, निर्दोश मारे जा रहे हैं। बागपत में दबिश के दौरान पुलिस उत्पीड़न की वजह से मां-बेटी ने जह़र खाकर जान दी। ऐसा अन्याय और अत्याचार पहले किसी सरकार में नहीं हुआ।