Monday , January 30 2023

5 Years of Yogi Sarkar: सीएम योगी ने पेश किया सरकार का 5 साल का रिपोर्ट कार्ड, कहा- जनता से किये सभी वादे किये पूरे

लखनऊ. 5 Years of Yogi Sarkar- मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को अपनी सरकार के पांच सालों का रिपोर्ट कार्ड पेश किया। कहा कि हमने प्रदेश में अपने पांच वर्ष के कार्यकाल में सभी संकल्पों को पूरा करने के साथ प्रदेश की छवि को भी सुधारने का काम किया है। पांच वर्ष पहले हमने जनता से हमने जो वादे किये थे उन्होंने पूरा किया गया। सीएम योगी ने कहा कि पांच में से तीन साल निर्विघ्न रूप से बेहतरी की ओर हम निरंतर बढ़ते रहे। अगले दो साल कोरोना महामारी हमारे लिए जीवन और जीविका दोनों के लिए चुनौती बनकर आई थी। हमने भारत में इस महामारी से निपटने के लिए जो प्रयास किए, उसकी पूरे विश्व में सराहना हुई। उसी का परिणाम है कि देश की सबसे बड़ी आबादी वाले राज्य ने कोविड प्रबंधन में सबसे बेहतरीन काम किया। उन्होंने कहा कि आज शत-प्रतिशत आबादी को पहली डोज मिल गई है और सत्तर फीसदी से अधिक ने दूसरी डोज ले ली है।

सीएम योगी ने कहा कि हमारे सामने सबसे बड़ी चुनौती प्रदेश की छवि को सुधारने की थी। हम उसको भी सुधारने में सफल रहे। प्रदेश में लम्बे समय से कानून-व्यवस्था खराब होने के कारण यहां से पलायन करने वाले लोग अपने घरों को लौटे और अपना काम-काज फिर से प्रारंभ किया। प्रदेश में बेहतर कानून-व्यवस्था का दावा करते हुए कि सीएम योगी ने कहा कि एनसीआरबी के आंकड़ों के मुताबिक, डकैती में 58, लूट के मामलों में 64, हत्या में 3, फिरौती एवं अपहरण में 53 सहित दहेज व बलात्कार के मामलों में 47 फीसदी गिरावट दर्ज की गई है। माफियाओं की 2046 करोड़ की संपत्ति हमने अटैच की है। सीएम योगी ने कहा कि बीते पांच साल में प्रदेश में कोई आतंकी घटना और दंगा नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि ‘लव जिहाद’ और धर्मांतरण रोकने के लिए कानून बनाया गया।

पांच साल में सुधरी अर्थव्यवस्था: सीएम योगी
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आजादी से बाद से उत्तर प्रदेश देश में छठे से सातवें नंबर की अर्थव्यवस्था थी, लेकिन हमने पिछले पांच में उत्तर प्रदेश के देश में दूसरे नंबर की अर्थव्यवस्था बना दी है। मुख्यमंत्री ने बताया कि 1947 से 2017 तक उत्तर प्रदेश में सालाना प्रतिव्यक्ति आय 45-46 हजार रुपये थी। हमारी सरकार के कामकाज की वजह से यह 94 हजार रुपये सालाना हो गई है। उन्होंने कहा कि 2015 में उत्तर प्रदेश का बजट दो लाख करोड़ रुपये की थी, लेकिन अब यह छह लाख करोड़ का बजट हो चुका है।